loading...

मैडम जी के घर पे कुछ अलग हो गया

हाय फ्रेंड्स. antarvasna sex stories एक बहुत सुंदर मैडम जी आई थी. उनका नाम अनु था और वो दिखने में बहुत स्वीट थी. आप सब भी अपनी मैडम जी के पीछे पड़ते होंगे। अब मैं भी मैडम जी के पीछे पड़ गया था. मैं उसको हर समय घूरता रहता था. उनको क्लास में पढ़ाने नहीं देता था और वो जब घर जाती तो मैं उनके घर के सामने खड़ा रहता था। अब वो बिल्कुल बुरी तरह से परेशान हो गई थी। अब मैडम जी ना ही डाइरेक्टर को शिकायत कर सकती थी. क्योंकि डाइरेक्टर सर मेरे पापा के बहुत अच्छे दोस्त थे। अब मैं मैडम जी पर क्लास में कमेंट भी मारने लग गया था। फिर मैडम जी का चेहरा गुस्से में लाल हो जाता था और मुझे गुस्से में भी मैडम जी बहुत प्यारी लगती थी। मैं उनकी नशीली मोटी-मोटी आँखो का दीवाना हो गया था. जिन्हें देखकर मैं नशे में हो जाता था. लेकिन मेरे दिल मैं उनके लिए कोई गलत विचार नहीं थे।

फिर एक दिन मैडम जी ने मुझे अपने कैबिन में बुलाया. वहाँ सिर्फ़ मैडम जी बैठती थी। अब मैं बहुत खुश था. अब मैं मैडम जी को घूर रहा था और मैडम जी का चेहरा नीचे झुका हुआ था। अब मैडम जी की आँखें गीली हो गई थी और वो बिल्कुल रोने वाली थी। फिर तभी मैं मैडम जी के पास गया. तो मैडम जी रोने लग गई. तो मैंने मैडम जी के कंधे पर अपना एक हाथ रखा। फिर मैडम जी ने मेरा हाथ पकड़कर अपने ब्लाउज पर रख दिया और बोली कि तुम यही चाहते होना तो कर लो जो करना है। फिर मुझे एकदम से झटका लगा और मैं कैबिन से बाहर आ गया। अब मुझे कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था. मैडम जी मेरे बारे में क्या सोचती है? फिर कॉलेज की छुट्टी हुई। अब मैं मैडम जी के घर के सामने खड़ा हो गया था। फिर मैडम जी आई और मुझे देखकर फिर से रोने जैसी हो गई और अपने घर चली गई।

फिर मैंने भी थोड़ी हिम्मत की और मैडम जी के पीछे-पीछे उनके घर में अंदर चला गया. उनके घर में एक 3 साल की बच्ची और एक नौकरानी थी। फिर उसने मुझे पानी दिया और फिर मैडम जी ने मेरा हाथ पकड़ा और अपने बेडरूम में ले गई। मैडम जी मुझे अभी भी गलत समझ रही थी। फिर बेडरूम में जाते ही मैडम जी ने गेट की कुण्डी लगा दी और मेरे पैरो में रोती-रोती पड़ गई। फिर मुझे एक झटका सा लगा और मैं पीछे हट गया। अब मैडम जी रोते-रोते कह रही थी कि आप मुझे कॉलेज से ना निकलवाए. आप जो कहेंगे मैं वो करने के लिए तैयार हूँ। फिर मुझे झटका सा लगा कि ये मैडम जी क्या कह रही है? फिर मैंने आगे बढ़कर मैडम जी को उठाया और उनके आँसू पोछे और मैडम जी से बोलने लगा। फिर मैडम जी ने मुझे रोका और बोली कि आप यही चाहते है ना कि मैं आपके साथ रात गुज़ारू. तो मैं तैयार हूँ बस आप मुझे नौकरी से ना निकलवाइए। अब मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि मैडम जी यह क्या कह रही थी? फिर मैंने मैडम जी से पूछा। फिर मैडम जी ने बताया कि मेरे दोस्त उनसे कहते है या तो मैं आपके साथ रात गुज़ारू नहीं तो आप मुझे निकलवा देंगे और बताया कि मेरा इस संसार में उसकी बेटी के आलावा कोई नहीं है. उनके पति का स्वर्गवास हो चुका है और बड़ी मुश्किल से उन्हें ये पढ़ाने की जॉब मिली है. तो तब मुझे अपने फ्रेंड्स पर बहुत गुस्सा आया। फिर मैंने मैडम जी से कहा कि आप मुझे बहुत प्यारी लगती हो. लेकिन मेरे दिल में आपके प्रति कोई गंदी भावना नहीं है. मुझे आप अपनी ज़िंदगी से भी ज़्यादा लगती हो। फिर मैडम जी ने इस बार हंसकर कहा कि मुझ पर लाईन मार रहे हो. मुझमें क्या अच्छा लगता है? तो मैंने कहा कि आपकी आँखें. आपके होंठ. आपका पेट. तो ये सुनकर मैडम जी शर्मा गई। फिर मैंने मैडम जी से कहा कि क्या मैं आपको किस कर सकता हूँ? तो उन्होंने भरे दिल से हाँ कह दिया। फिर मैंने कहा कि अगर आप नहीं चाहती तो मना कर दो। फिर मैडम जी ने मेरा हाथ पकड़कर कहा कि आप बहुत अच्छे हो. आप किस ले सकते हो।

loading...

फिर मैडम जी ने अपना मुँह उठाया और अपनी आँखें बंद कर ली। अब मैं मैडम जी के होंठ चूमना चाहता था. अब मैं मैडम जी की साँसे महसूस कर रहा था. उनकी धड़कन तेज हो चुकी थी और फिर मैं उनके होंठो पर किस करने के बजाए उनके गाल पर किस करके जाने लगा। फिर मैडम जी ने अपनी आँखें खोली. तो मैंने आँख मारकर फ्लाइयिंग किस दे दी। अब मैडम जी और मैं काफ़ी घुलमिल गये थे और एक दूसरे को हग करने लग गये थे। अब मैडम जी मुझसे पूछती थी कि तुम्हें क्लास में कौन सी लड़की सबसे अच्छी लगती है? तो मैं मैडम जी का नाम लेता था। फिर मैडम जी ने कहा कि मैं तो लेडी हूँ। फिर मैंने कहा कि मुझे आपके आलावा कोई पसंद नहीं है। फिर मैडम जी ने फिर से मुझसे पूछा कि आपको मुझमैं क्या पसंद है? तो इस बार मैंने अपना मुँह मैडम जी के बूब्स पर रख दिया। फिर मैडम जी ने मेरा चेहरा दबा लिया और कहा कि मुझे भी तुम बहुत पसंद हो।

अब मैं मैडम जी के ब्लाउज के ऊपर से उनकी बूब पीने लगा था और फिर मैंने उनका ब्लाउज फाड़ दिया। फिर तभी मैडम जी बोली कि आज मुझे गुरु दक्षिणा चाहिए। फिर मैंने पूछा कि मेरी जान को क्या चाहिए? तो मैडम जी ने कहा कि मुझे एक बच्चा चाहिए। फिर ये सुनते ही मैं मैडम जी के होंठ ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा। अब मेरा लंड तनकर मैडम जी की चुत के ऊपर टकरा रहा था। फिर मेरे दोनों हाथ मैडम जी के मोटे-मोटे चुतड़ों पर चले गये और मैंने उन्हें ज़ोर से अंदर की तरफ दबाया. तो मैडम जी बिल्कुल मुझसे चिपक गई। फिर मैंने मैडम जी की ब्रा उतार दी और उनकी बूब चूस-चूसकर लाल कर दी। अब मैडम जी को दर्द होने लगा था तो वो बोली कि सैयाँ नीचे खुजली हो रही है। फिर में मैडम जी का पेट चाटता हुआ उनकी नाभि पर आ गया और अपनी जीभ उनकी नाभि में डाल दी। अब मैडम जी मौन कर रही थी। फिर में मैडम जी की चुत में अपनी एक उंगली देने लगा। अब वो बहुत गर्म हो चुकी थी। फिर जैसे ही मैंने मैडम जी की चुत पर अपने होंठ रखे. तो उन्होंने अपना पानी छोड़ दिया और मेरे सिर को वहाँ पर ही दबा लिया।

अब वो ज़ोर-ज़ोर सिसकारी लेकर शांत पड़ गई थी. लेकिन में मैडम जी की चुत के दाने को मसलता रहा। फिर थोड़ी देर के बाद हम 69 की पोजिशन में आ गये। अब मैडम जी बहुत अच्छे तरीके से मेरा लंड चूस रही थी और में उनकी चुत को चूस और चाट रहा था। फिर में उनके ऊपर बैठ गया और अपने लंड से उनके बूब्स को चोदने लगा। अब जब भी मेरा लंड ऊपर जाता. तो वो उसे अपनी जीभ से चाट लेती थी और में ऐसे ही 2 मिनट में झड़ गया और वो मेरा सारा वीर्य पी गई. लेकिन मैडम जी ने मेरा लंड नहीं छोड़ा और उसे चूसती ही रही। फिर हम फिर से 69 की पोजिशन में आ गये तो थोड़ी देर में ही मेरा लंड फिर से तैयार हो चुका था और उनकी चुत मिलन के लिए तैयार था। फिर मैडम जी बोली कि फाड़ दो मेरी चुत. मुझे अपने बच्चे की माँ बना दो। फिर मैंने एक ही झटके में अपना लंड उनकी चुत की गहराई में उतार दिया। फिर मैडम जी की चीख निकल गई. लेकिन मैं उन्हें प्यार करता रहा और हम फिर एक दूसरे के हो गये। फिर हमें जब कभी भी कोई मौका मिला तो हमने खूब चुदाई की और खूब इन्जॉय किया.

वालेइसकेहुएचाहिएहुएगया

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...