loading...

अफसर की बीबी बगलवाली आंटी की चुदाई

वेरी हॉट स्टोरी हिंदी में। गरमा गरम चुदाई की कहानी।

दोस्तो। कैसे हैं आप सब।  मेरा नाम अशोक है, मै चंडीगढ़ मे रहता हूं।
हमारे घर की पहली मंज़िल को एक पुलिस अफ़सर ने किराए पर लिया हुआ है। अफसर ऑफिसर तो बाहर पोस्टेड था। मगर उसकी बीवी और 8 साल का बेटा अपनी स्टडी के कारण यहा शिफ्ट हो गए थे।

अफसर की बीवी देखने मे तो कुछ खास नहीं थी। मगर हा। जब वो चलती थी। तो उसके बड़े मम्मे मुझे उत्तेजित कर देते थे।
एक:-दो महीने उसने मेरी ‘हैलो हाय’ के अलावा मुझे कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया।
मै घर के पीछे जाकर उसकी ब्रा और पैन्टी को सूखता देखकर मुठ मार लेता था।

एक दिन उसने तकरीबन सुबह 9:30 बजे मुझे आवाज़ मारी और कहा:- मेरे कंप्यूटर मे वाइरस आ गया है। क्या तुम उसे ठीक कर सकते हो?
मेरे पास वाइरस रिमूव करने का सॉफ्टवेयर था। क्यूंकि मै सॉफ्टवेयर कंपनी मे काम करता हूं।

मै ऊपर गया और उसके इंटरनेट ब्राउज़र की हिस्टरी डिलीट करने लगा। मैने देखा कि वो तो कई बार सेक्सी साइट्स पर नियमित रूप से जाती है।
मै समझ गया कि यह छोटा सा वाइरस सिर्फ़ उन्हीं साइट्स से आया होगा जो कि अक्सर होता है।

मैने बड़े हौसले से सोनाली को बुलाया और कहा:- आपकी एक सीक्रेट मुझे पता चल गया है।
उसने हैरानी जताई और हँस कर कहा:- ऐसी कौन सी बात पता चल गई है?
तो मैने कहा:- यह जो वाइरस तुम बता रही हो। यह उन्हीं साइट्स से आया है जिन पर तुम रोज़ जाती हो।

वो हैरान हो गई और उसने मुझसे पूछा:- कौन सी साइट की बात कर रहे हो तुम?

मैने उसे उसी वक़्त एक सेक्सी साइट खोल कर दिखाई। साइट देखकर उसकी आँखें मचलने लगी। और तभी मेरी दादी ने ज़ोर से मुझे आवाज़ लगा दी। मेरा खड़ा हुआ लंड एकदम नर्म हो गया। मुझे खीज सी उठी कि दादी को भी अभी ही आवाज़ लगानी थी।

मैने सोनाली से कहा:- मै अभी आता हूं। तुम साइट्स देखने के लिए तैयार रहना!

वो मुस्कुराई और मै दादी से मिलने चला गया। हमारी दादी हमारे पास ही रहती हैं और मेरा बहुत ख्याल रखती हैं। दादी किसी काम के लिए मुझे बुला रही थीं।

मुझे ऑफिस जाना था। मगर मैने सोचा कि ऑफिस की माँ की चुत।
फिर दादी से कहा:- मै ऑफिस के लिए लेट हो रहा हूं। और मै ब्रेकफास्ट नहीं करूँगा। आप कमरे मे आराम करो और मै शाम को मिलता हूं।

मै दादी से आँख बचा कर चुपके से ऊपर पहली मंज़िल पर चला गया। वहा सोनाली अपने कंप्यूटर पर पहले से ही सेक्सी वेबसाइट देख रही थी। उसकी नाइटी उसके टाँगों से ऊपर थी। लगता था। वो तो तैयार हो चुकी है।
मैने पीछे से जाकर उसके चूचियों को पकड़ लिया। वो एकदम हैरान हो गई।

उसकी नाइटी पिंक कलर की थी। मै उसकी गर्दन को चाटने लग पड़ा। उसने ज़ोर से ‘आआअहह।’ किया। मैने इशारे से चुदाई के लिए पूछा तो उससे कुछ बोला तो नहीं गया। पर सर हिला कर उसने ‘हा’ कह दिया।
शायद वो साईट देखते हुए एक बार झड़ चुकी थी।

इसी बीच मेरे होंठ उसकी गाण्ड की तरफ गए और दोनों मटकों को मै चाटने लगा। उसकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं था। लगता था जैसे उसके पति ने कभी वहा हाथ भी नहीं लगाया था।
यह कहानी आप रियलकहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

मैने उसके दोनों फलक खोले और अपना मुँह उनमे डाल दिया। वो तो ज़ोर:-ज़ोर से ‘आहें।’ भरने लगी।
मै चाटता गया और वो ज़ोर से अपनी गांड को मेरे मुँह मे पुश करने लगी।
तभी उसका शरीर ज़ोर से हिला और वो दूसरी बार झड़ गई।

loading...

उसने कहा:- अरे तुमने तो जादू कर दिया। मेरी चुत दो बार पानी:-पानी हो गई और अभी सारा काम बाकी है।
मै मुस्कुराया और उसकी टाँगों को चाटने लगा। उसका पानी चुत से टपकते हुए उसके घुटनों तक आ गया था। मैने उसे भी चाट लिया। और फिर उसके चूचियों की मालिश करनी शुरू कर दी।

वो चूचियों की मालिश से मस्त होने लगी तभी मैने अपनी दो उंगलियाँ उसकी गांड मे दे डालीं।

मेरा लंड पूरा खड़ा हो चुका था और उसके पेट को टच कर रहा था। मैने अपने लंड को उसकी नाभि के ऊपर रख कर हिलाना चालू कर दिया।
वो मदहोश हो रही थी। और जल्दी मेरा लंड चुत मे मे लेना चाहती थी।
मैने आज तक जिन भी आंटियों। और लड़कियों को चोदा है। मेरा यही मकसद रहा है कि औरत को पूरी रिस्पेक्ट दी जाए और उसके हर एहसास को पहचाना जाए। शायद यही सीक्रेट है मेरे सेक्सी जीवन का।

मैने उसके चूचियों को अपने हाथों मे लिया और चाटने लग पड़ा। मेरा घुटना उसकी चुत को सहला रहा था और वो और भी ज्यादा पानी छोड़ रही थी।
मैने नोटिस किया कि मैने उसकी पैन्टी तो उतारी ही नहीं है। और चुत रिसने का सारा जादू वैसे ही चालू है।

मै नीचे बैठ गया और अपने दातों से उसकी पैन्टी को नीचे की ओर खिसकाने लगा। उसे मेरा यह ट्रिक काफ़ी अच्छा लगा।
जब पैन्टी नीचे उतर गई। तो वो मुझे उठा कर किस करने लगी।
वाह क्या टेस्ट था उसका। मुआअहह।

अब मेरा मुँह उसके पेट को गोलाई मे चाटने लगा। फिर मै नाभि को चाटने लगा।
इतने मे वो तीसरी बार झड़ गई। और अपने हाथों से मेरा मुँह अपनी रानों पर रखवा लिया। मै उसकी रानों को चाटने लगा।
वो “आअहह।” करने लगी।

उसकी चुत पर बाल बहुत ही सुंदर थे। मैने उन पर हाथ फेरा। तो वो मदमस्त हो गई।
मैने पहले उसकी चुत के बाहरी हिस्से को चाटना शुरू किया। फिर आहिस्ता:-आहिस्ता अन्दर की ओर आया।

जी हा बिल्कुल वैसे। जैसे तुम अभी अपनी चुत पर यह पढ़ते:-पढ़ते हाथ फेर रही हो।

फिर मैने उसकी चुत को चाटना शुरू किया और उसने मेरे सर को अपनी टाँगों मे जकड़ लिया। मैने उसकी चुत के अन्दर अपनी जीभ डाल दी। और अपनी दो उंगलियाँ उसकी गाण्ड मे पेल दीं।
वो कराहने लगी:- आह्ह। मेरी चुत मार। ज़ोर से। आआहह। फाड़ डाल इसे।

तभी वो फिर से अकड़ी और उसने चौथी बार अपना पानी मेरे मुँह मे निकाल दिया।
वो पूरी तरह से निढाल हो चुकी थी। मेरा लंड अब कंट्रोल से बाहर था। उसने पकड़ा और अपनी चुत मे घुसा दिया। जैसे कि मक्खन मे गरम छुरी।

‘फिकर मत करो। मेरे अन्दर कॉपर टी लगी है। बिंदास मार लो। आआहह। उफफ्फ़। उम्म्मम। आईईईईई।’ उसकी चुदासी आवाजें आने लगीं।

मेरा लंड उसकी चुत को चीर रहा था।
‘आआहह। यसस्स्स्सस्स। मारो और ज़ोर से।’
उसका शरीर एकदम जकड़ गया और उसकी चुत के मसल्स ने मेरे लंड को जकड़ लिया।
वो एक फव्वारे की तरह बह गई और मैने भी अपने लंड का पानी उसकी चुत को समर्पित कर दिया।

वो पाँचवी बार झड़ चुकी थी। उसकी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था।
हमने जोरदार किस किया और बिस्तर पर लेट गए।
थोड़ी देर बाद मै ऑफिस के लिए निकल गया।

आज तक हम दोनों मस्त सेक्स करते हैं और मज़ा करते हैं।

दोस्तो, यह थी फौजी की बीवी के साथ मेरी मस्ती की कहानी। ऐसे और मस्त एक्सपीरियेन्स मै आपसे शेयर करता रहूंगा। यह मेरा आप सब रियलकहानी डॉट कॉम पढ़ने वालों के साथ वादा है। मुझे मेसेज करें।

loading...