loading...

भाभी की दोस्त की विशालकाय गाँड

Bhabhi ki friend ki gand ki chudai ki kahani, desi kahani, hindi sex kahani, antarvasna hindi sex story
दोस्तो, मेरी उम्र 20 साल है. मैं ग्रेजुएशन कर रहा हूँ.
एक बार मैं और मेरे भैया:- भा’भी टूर पर गए हुए थे, और भा’भी की फ्रेण्ड रिंकी भी साथ में थीं. जो शादीशुदा थीं.

अभी उनकी शादी को लगभग तीन साल हुए थे. और उनके पति दस दिन पहले एक महीने के लिए दूसरे स्टेट गए हुए थे.
टूर प्लेस पर एक जगह बहुत भीड़ थी और सभी लोग लाइन में जा रहे थे, हम लोग भी लाइन में लगे थे.
थोड़ी देर बाद लाइन बढ़ी. फिर रुकी. फिर बढ़ी सबसे आगे भैया. फिर भा’भी और उनकी दोस्त और आखिर में मैं था. लाइन बढ़ी और इस बार काफी तेजी से मुझे पीछे से धक्का लगा और मेरे लण्ड पर एक झटका लगा.
सामने देखा तो मेरे होश ही उड़ गए. मैं रिंकी जी की गाँड से टकराया था.

इतनी बड़ी गाँड मैंने आज तक लाइव नहीं देखी थी.
अब मेरा लण्ड खड़ा होने लगा.
एक बार फिर उनकी 38 इंच की बड़ी गाँड से टकरा गया, अब मेरा लम्बा लण्ड एकदम से खड़ा हो गया.
इस बार उन्होंने पीछे पलटकर मेरी ओर देखा, मुझे बहुत शर्म आ रही थी, मैं अपने आपको बड़ी मुश्किल से संभालते हुए एकदम रुक गया. और जब वो मुझसे थोड़ी दूर चली गईं. तब मैं आगे बढ़ा.
एक दिन का टूर ख़त्म होने के बाद रात को हम घर पहुँचे. खाना खाया और सो गए. लेकिन मुझे रिंकी की गाँड का एहसास सोने नहीं दे रहा था, किसी तरह सो गया.
सुबह देर से उठकर नहाया फिर खाना खा कर टीवी देखने लगा.
तभी रिंकी जी आईं. भा’भी से बात करने के बाद उन्होंने मुझसे अपने घर चलने को कहा.
मैं भी बिना कुछ पूछे उनके घर गया फिर हम दोनों बात करने लगे.

रिंकी:-  और बताओ मजा आया टूर में.

मैंने थोड़ा झिझकते हुए कहा:-  हाँ.
रिंकी:-  क्या पिओगे. ठंडा या गरम?

मैंने:-  नो थैंक्स.

रिंकी:-  अरे ऐसे कैसे. तुम पहली बार आए हो. कुछ तो लेना ही पड़ेगा.

मैं चुप बैठा रहा.
रिंकी:-  अच्छा. तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?

मैंने:-  नहीं.

रिंकी धीरे से बोलीं:-  अच्छा तुम्हें कल लाइन वाली बात याद है?

मैंने:-  कौन सी बात?

रिंकी:-  जब तुम मुझसे टकराए थे?

मैंने:-  ओह्ह. सॉरी पर मैं जानबूझ कर नहीं.
रिंकी ने मेरी बात बीच में बात काटते हुए कहा:-  हो जाता है भीड़ में. ऐसा हो जाता है.

मैंने:-  आपको बुरा तो नहीं लगा?

loading...

रिंकी:-  नहीं. बिल्कुल नहीं.
एक पल के लिए हम दोनों मौन रहे.

रिंकी:-  क्या तुम्हें मजा आया था?

मैंने:-  अंह. हाँ.

रिंकी:-  ओह. तभी तुम्हारा. वो खड़ा हो गया था है न.

मैंने शर्माते हुए जबाव दिया:-  हाँ.
रिंकी:-  क्या फिर से टकराना चाहोगे मेरी गाँड से?
मैंने:-  ये. आप.

रिंकी:-  हाँ या न. नहीं तो तुम्हारी भा’भी से सब कुछ बता दूँगी.

मैंने:-  हाँ.

रिंकी:-  ठीक है. टकराओ!
मैं शरमा रहा था.
अब मैं खड़ा हो चुका था. वो मेरे पास आईं और पास और हाथ पकड़ कर बेडरूम में ले गईं और ब्लू फिल्म चला दी.
अब उनकी 32:- 30:- 38 की फिगर देखकर मेरा लण्ड खड़ा होने लगा.

रिंकी चुपचाप खड़े हो कर टीवी की तरफ देख रही थीं, मैं उनके पीछे खड़ा था, मैं तेजी से उनके पास गया और कसकर उनकी कमर पकड़ ली.

मेरा लण्ड उनकी गाँड पर. हाय. जन्नत जैसा लग रहा था.
फिर मेरे हाथ धीरे:- धीरे रिंकी के मम्मों पर गए और मैं उन्हें मसलने लगा. उसी तरह पकड़े:- पकड़े मैं उन्हें बिस्तर पर लाया और अपने ऊपर लिटा लिया.

अब मुझे बहुत ज्यादा तड़प लग रही थी, मैंने उन्हें बिस्तर पर लिटाया और खुद उनके ऊपर लेटकर पागलों की तरह चुम्बन करने लगा और उनकी साड़ी उतारने लगा, फिर पेटीकोट. ब्लाउज.
अब वो ब्रा और पैन्टी में थीं.

ब्रा उतार कर मैं बुरी तरह उनकर मम्मों को चूसने लगा.
कुछ देर बाद मैंने उनसे कहा:-  आपकी गाँड बहुत खूबसूरत है. बिल्कुल जन्नत के दर्शन करा देती है.

रिंकी:-  तो जन्नत के दर्शन जरूर करो.
मैंने उन्हें उल्टा लिटाया और अपनी कच्छी उतार दी.

अब मेरे सामने एक विशालकाय चिकनी गाँड नंगी पड़ी थी.
मैंने रिंकी की गाँड पर अपना लण्ड रख दिया और उनके ऊपर लेट गया.
मैंने रिंकी से कहा:-  क्या आप थोड़ी देर के लिए मेरी घोड़ी बनोगी?
वो अपने घुटनों और हाथों पर खड़ी हो गईं और मैंने अपना मूसल सा तन्नाया हुआ लंबा लण्ड उनकी गाँड में डालना शुरू किया.
रिंकी हल्की सी चीखी. मैंने बिना ध्यान दिए और अन्दर डाला. मैंने धीरे:- धीरे अपना पूरा लण्ड उनकी गाँड में डाल दिया और फिर मेरी सवारी शुरू हो गई. करीब 5 मिनट में ही मैं झड़ गया और मैंने अपना सारा वीर्य उन पर डाल दिया.
फिर मैं घर चला गया.
यह थी रिंकी जी की विशालकाय गाँड की सवारी की दास्तान.Bhabhi ki friend ki gand ki chudai

loading...