loading...

एक मस्त डुबकी का खेल

Hindi sex kahani, desi sex story. दोस्तों एक मजेदार कहानी “दुबकी का खेल” पढ़िए। अगर आप रियल कहानी डॉट कॉम के fan हैं तो इस वेबसाइट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। मैंं मध्यप्रदेश का रहने वाला हूँ और शुरू से ही रियलकहानी का नियमित पाठक हूँ। आप यह भी कह सकते हैं मुझे रियलकहानी की लत लगी हुई है और मैंंने रियलकहानी 2016 से लेकर आज तक प्रकाशित होने वाली अधिकतर कहानियाँ पढ़ी हुई हैं। मेंरे जैसे अनेकों पाठकों के मनोरंजन के लिए इस साईट को मैंं धन्यवाद करता हूँ!

मेंरा नाम सुमित है और मेंरी उम्र छबीस वर्ष है। मेंरा कद 5 फीट 9 इंच और मेंरा रंग गोरा है। देखने मेंं बहुत स्मार्ट हूँ क्योंकि जिम मेंं जाने की वजह से मेंरा शरीर भी एकदम गठीला हो गया है। मेंरे डोले 16 इंच के है और छाती 42 इंच की है। इतनी जानकारी से मेंरे व्यक्तित्व एवं शख़्सियत का अंदाजा तो अब आप खुद ही लगा सकते हैं।

मैंंने अपने जीवन के कुछ मधुर अंश तो अपनी रचना पहले ही आप सबको बता चुका हूँ! अब मैंं आपको मेंरी उस इक्कीसवीं वर्षगाँठ के बाद हुए एक प्रकरण के बारे मेंं बताना चाहूँगा। मेंरी दीदी शिप्रा और पड़ोसन ऋषिता द्वारा मेंरी वर्षगाँठ और उसके बाद के दस दिन तक तोहफे मेंं मुझे बहुत सेक्स दिया। दस दिनों के बाद दीदी तो अपने घर भीलवाड़ा चली गई और मेंरे साथ सेक्स करने के लिए सिर्फ ऋषिता ही रह गई थी!

ऋषिता और मैंं लगभग अगले डेढ़ वर्ष तक जब भी हमेंं मौका मिलता था हम सेक्स करते थे और एक दूसरे को संतुष्ट करके दोनों बहुत ही खुश थे! उन दिनों जब भी ऋषिता के पति किसी काम से शहर से बाहर जाते थे तब मैंंने पूरी रात उसके ही घर मेंं ही सोता था और उसे खूब चोदता था!

ऐसी ही एक रात को जब ऋषिता के पति तीन दिनों के लिए शहर से बाहर गया हुआ था तब उसके घर मेंं मेंरे साथ सेक्स करते हुए उसने बताया कि उसके पति का स्थानान्तरण अजमेंर मेंं हो गया था और वह कुछ ही दिनों मेंं मध्यप्रदेश से अजमेंर चली जायेगी।

उस रात के बाद अगले पन्द्रह दिन तक ऋषिता ने हर रोज़ पति के जाने के बाद दिन के समय या फिर शाम को उनके वापिस आने से पहले मेंरे साथ सेक्स ज़रूर करती थी। अजमेंर जाने से पहले वह मुझे अपन पता भी दे गई थी और कह गई थी कि जब भी उसके पति शहर से बाहर जायेंगे वह मुझे फ़ोन कर के बुला लेगी लेकिन अफ़सोस आज तक उसका फोन नहीं आया है।

ऋषिता के जाने के बाद अगले छह माह तक मैंं बिल्कुल अकेला ही रहा और अपना हाथ जगन्नाथ के सहारे अपनी इच्छाएँ एवं ज़रूरतें पूरी करता था। बीच बीच मेंं तीन:-चार दिनों के लिए जब भी शिप्रा आती थी तब वह अपने वादा निभाती थी और उन तीन या चार दिन एवं रातों मेंं अनेक बार मेंरी वासना की संतुष्टि करती थी।

पुरानी बीती बातों मेंं उलझा कर मैंं आपका अधिक समय बर्बाद नहीं करते हुए आपको उस घटना का विवरण बताना चाहूँगा जो मेंरे साथ तीन वर्ष पहले घटी थी।

तब मैंं अपने पड़ोस मेंं रहने वाली अपनी शिष्या सुप्रिया के साथ सेक्स किया था, उस घटना के समय सुप्रिया की उम्र 19 वर्ष थी और वह शाम सात बजे से आठ बजे के बीच मेंं मुझसे विज्ञान पढ़ने के लिए मेंरे घर पर आती थी।

सुप्रिया की सुन्दरता और शरीर के बारे मेंं कुछ भी कहने के लिए तो मेंरे पास शब्द ही नहीं हैं, वह तो एक अप्सरा थी जिसके शरीर का पैमाना था 36:-26:-36 और जब वह चलती है तो मानो क़यामत आ जाती है। उसका रंग गोरा और चेहरा अंडाकार है तथा नैन नक्श बहुत ही तीखे हैं! ऐसा लगता है कि वह किसी प्रख्यात मूर्तिकार की एक उत्कृष्ट रचना है।

सुप्रिया एक उच्च:-माध्यमिक स्कूल मैंं 10+2 के अंतिम वर्ष मेंं पढ़ती थी और प्रथम तिमाही परीक्षा मेंं विज्ञान के विषये मेंं उसके अंक कम आने के कारण वह बहुत ही चिंतित रहती थी।

उसने अपनी चिंता को अपनी माँ के द्वारा मेंरी माँ के साथ साझा करी और मेंरी माँ से अनुरोध किया कि वह मुझे कह कर सुप्रिया को विज्ञान के विषय मेंं पढ़ा दिया करूँ!

माँ ने सुप्रिया की माँ की बात सुन कर उन्हें आश्वासन दे कर भेज दिया और सांझ के मेंरे से इस बारे मेंं सारी बात बताई! जब माँ ने मुझ पर सुप्रिया को पढ़ाने के लिए दबाव डाला तब मुझे उनकी आज्ञा माननी पड़ी और मैंंने उनसे कह दिया कि शाम को ऑफिस से वापिस आने के बाद सात बजे से आठ बजे के बीच मेंं ही उसे पढ़ा पाऊँगा।

अगले दिन से माँ के बताये समय पर सुप्रिया हमारे घर आई तो माँ उसे लेकर उपरी मंजिल मेंं मेंरे कमरे मेंं ले कर आई और मुझसे परिचय कराया।

माँ के जाने के बाद मैंंने सुप्रिया से लगभग एक घंटे तक उसकी पढ़ाई और स्कूल के बारे मेंं पूछताछ की तथा विज्ञान मेंं उसे क्या आता है और क्या नहीं आता इसके बारे मेंं जानकारी ली।

फिर अगले दिन मैंंने उसे क्या पढ़ाना है उसके बारे मेंं तैयारी करके आने के लिए कह कर घर भेज दिया।

उस दिन के बाद सुप्रिया रोजाना शाम सात बजे मेंरे कमरे मेंं आ जाती और मुझसे आठ बजे तक पढ़ती और फिर अपने घर चली जाती।पहले दस दिन तक तो वह उस एक घंटे मेंं वह मुझ से बहुत ही संकोच से बात करती थी लेकिन आहिस्ता आहिस्ता उसका संकोच दूर हो गया और वह मुझ से खुल कर बात करने लगी।

एक दिन उसने मुझे यह कह कर मेंरा मोबाइल नंबर माँगा कि अगर वह किसी कारणवश किसी दिन पढ़ने के लिए आने को असमर्थ होगी तो वह मुझे पहले ही मेंरे मोबाइल पर बता देगी।

मैंंने उसकी बात को उपयुक्त समझते हुए उसे अपना नंबर दे दिया तो उसने मेंरे मोबाइल पर मिस्ड:-काल दे कर अपना नंबर मुझे दे दिया।

अगले दिन से रोजाना सुबह सुबह छह बजे मेंरे फ़ोन पर उसके शुभ:-प्रभात के और रात को दस बजे शुभ:-रात्रि के सन्देश आने लगे, मैंं भी उसे उन संदेशों क उत्तर शुभ:-प्रभात तथा शुभ:-रात्ति लिख कर भेज देता।

धीरे:-धीरे वह संदेशों के बदले मुझसे फ़ोन पर शुभ:-प्रभात और शुभ:-रात्रि कहने लगी और इस तरह हम दोनों की बातचीत का सिलसिला भी शुरू हो गया!

पहले तो हम दोनों की सामान्य बातें ही होती थी लेकिन बाद मेंं यह सामान्य बातें सेक्स की तरफ बढ़ने लगी। पढ़ाई के समय तो वह पूरा ध्यान लगा कर पढ़ती और कोई इधर उधर की बात नहीं करती लेकिन उसके घर पहुँचते ही हम दोनों देर रात तक अश्लील बातें करने लगते।

जैसे मैंं उसे कहता– मुझे तुम्हारा दूध पीने का मन हो रहा है!
तब वह कहती:- ज़रूर पिलाऊँगी, लेकिन पहले तुम्हें मुझे अपना मक्खन खिलाना पड़ेगा!

कभी कभी वह कहती:- मेंरी शर्मगाह मेंं बहुत आग लगी हुई है!
तब मैंं उसे उत्तर दे देता:- मैंं अपनी नली को तुम्हारी शर्मगाह के अन्दर डाल कर उस आग को बुझा दूंगा

कुछ ही दिनों के बाद सुप्रिया ने अधिक अश्लील हो कर लिखा:- तुम्हारा लंड कितना लम्बा है?
तब मैंंने भी लिख दिया:- मुझे उसे नापना नहीं आता, क्या तुम अपनी बिना दांतों वाले मुँह मेंं डलवा कर उसे नाप दोगी?’
उसका जवाब आया:- क्या तुम्हारे लंड ने अभी तक किसी चुत मेंं डूबकी नहीं लगाई है?
मेंरा उत्तर था:- नहीं, अभी तक डुबकी नहीं लगाई है, अगर लगाई होती तो तुम्हें नाप ज़रूर बता देता!!
फिर उसने प्रश्न किया:- तुम मेंरी चुत मेंं डुबकी कब लगाओगे, मुझे काफी दिनों से उसमेंं खुजली हो रही है!

उस समय मुझे आगे बात बढ़ाना ठीक नहीं लगा इसलिए मैंंने कोई उत्तर नहीं दिया और फ़ोन काट दिया। उसकी बातों पर विचार करने के बाद मुझे विश्वास हो गया था कि आग दोनों तरफ लगी हुई है और सुप्रिया मुझसे भी अधिक आतुर थी मेंरे नीचे लेटने को !

हम दोनों ही एक दूसरे मेंं समाने के लिए बेताब हो रहे थे क्योंकि मेंरे और उसके दिन अपना हाथ जगन्नाथ करते करते कट रहे थे! अक्सर सेक्स की बातें करते करते हम दोनों कब झड़ जाते पता ही नहीं चलता था।

करीब चार महीनों तक हम दोनों के बीच मेंं ऐसे ही बातचीत चलती रहा क्योंकि हमेंं हम:-बिस्तर होने के लिए कोई जगह नहीं मिल रही थी। सुप्रिया को मेंरा कमरा पढ़ाई का मंदिर लगता था और घर मेंं दूसरी जगह सुरक्षित नहीं थी। सुप्रिया की उम्र भी छोटी होने के कारण मैंं उसे कहीं बाहर ले जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था!

कहते है कि किसी भी काम मेंं देर हो सकती है परन्तु अंधेर नहीं हो सकता है, और यह भी कहते हैं कि जब मिलता है तो छप्पर फाड़ कर मिलता है। ऐसे ही कुछ दिन हमेंं भी मिल गए क्योंकि मेंरे नाना जी को दिल का दौरा पड़ने से हस्पताल मेंं भरती कर दिया गया! माँ और पापा को उनको देखने के लिए जाना पड़ा और चार दिनों के लिए मेंरे घर अन्य कोई नहीं था।

सुप्रिया तो मुझे डुबकी लगवाने के लिए पहले से ही बहुत आतुर थी इसलिए जब मैंंने उसे बताया कि चार दिनों के लिए मेंरे घर मेंं कोई भी नहीं होगा तो वह ख़ुशी के मारे नाचने लगी।

हम दोनों द्वारा बनाई योजना के अनुसार सुप्रिया ने अपने माँ से कह दिया कि अगले सप्ताह उसके कक्षा टेस्ट है इसलिए उनकी तैयारी करने के लिए उसे अगले चार दिन शाम छह बजे से आठ बजे तक पढ़ने के लिए जाना पड़ेगा।

और फिर सुप्रिया ने माँ से अनुमति लेकर उसी दिन शाम छह बजे मेंरे घर पहुँच गई।

सुप्रिया को शायद हम:-बिस्तर होने की अधिक जल्दी थी क्योंकि जब मैंंने उसे पढ़ने के लिए ऊपर कमरे मेंं चलने के लिए कहा तो वह मुँह बनाने लगी।

मैंंने उसे समझाया कि पहले पढ़ाई करेंगे और उसके बाद मौज:-मस्ती ! अगर पहले मौज:-मस्ती करेंगे तो फिर थकान के कारण पढ़ाई मेंं मन नहीं लगेगा और कुछ समझ भी नहीं आएगा।

मेंरी बात सुन कर वह मान गई और उपर के कमरे मेंं पढ़ने के लिए चल पड़ी और एक घण्टे तक मुझसे हर रोज़ की तरह पढ़ी।

लगभग सात बजने वाले थे जब पढ़ाई समाप्त हुई तब वह मेंरी ओर लालसा भरी नजरों से देखने लगी। मैंंने उसकी आँखों से आने वाले संकेतों को पढ़ कर जैसे ही उसके उरोजों पर हाथ रखे तो उसने मेंरे हाथों को झटक कर अलग कर दिए।

मैंंने विस्मय की दृष्टि से जब उसकी ओर देखा तो उसने कहा:- यहाँ इस पढ़ाई के मंदिर मेंं नहीं, कहीं और ले चलो, वहीं पर जो करना होगा वह करेंगे!

उसकी इच्छा का सम्मान करते हुए मैंं उसे नीचे की मंजिल मेंं माँ:-पापा के बैडरूम मेंं ले आया! उस कमरे मेंं पहुँचते ही सुप्रिया का रंग ढंग ही बदल गया और उसका चेहरा ख़ुशी से चमक उठा तथा मेंरे साथ चिपक कर बैठ गई।

फिर उसने मेंरे दोनों गालों पर अपने हाथ रख कर थोड़ा अपनी ओर खींचा और अपने दोनों होंठ मेंरे होंठों पर रख दिए। मैंंने भी उसका साथ देते हुए उसे चुमने लगा और अगले पन्द्रह मिनट तक हम दोनों एक दूसरे से चिपके चुम्बनों का आदान प्रदान करते रहे।

मैंंने उसके होंठों के साथ साथ उसके माथे, आँखों, नाक, गालों, ठोड़ी और गर्दन को भी चुमा जिससे वह बहुत गर्म हो गई।

उसने मुझे अपने बाहुपाश मेंं जकड़ कर जब मेंरे चेहरे को चुम चुम कर गीला कर दिया तो मैंं भी गर्म होने लगा, मेंरे से रहा नहीं गया और मैंं अपने दोनों हाथों से उसके उरोजों को दबाने लगा।

सुप्रिया भी मेंरा साथ देने लगी और मेंरी सहूलियत के लिए उसने अपनी चुनरी हटा कर दूर फर्श पर फेंक दी!

कुछ देर उसके उरोज दबाने के बाद मैंंने उसकी कुर्ती को थोड़ा ऊँचा किया तो सुप्रिया तुरंत उसे भी उतार कर अपनी चुनरी के पास फर्श पर फेंक दिया!

अब उसके ऊपरी धड़ मेंं सिर्फ एक सफ़ेद ब्रा मेंं कैद थी और उसके गोरे उरोजों के रंग के सामने उसकी ब्रा का सफ़ेद रंग भी फीका लग रहा था।

मैंंने जब उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके उरोजों को पागलों की तरह दबाने और चुसने एवं चाटने की चेष्टा करने लगा तो सुप्रिया ने कहा:- ठहरो, इसे अपनी थूक से गीला मत करो, मैंं इस भी उतार देती हूँ!

इतना कह कर सुप्रिया ने दोनों हाथ पीछे करके अपनी ब्रा का हुक खोल दिया और ब्रा को उरोजों से अलग करते हुए चुनरी और कुरती के ऊपर फेंक दी।

loading...

उसके दृढ़ और उठे हुए उरोजों को देख कर मैंं आपे से बाहर हो गया और उन रेशम से मुलायम उरोजों की चुचुक को अपने मुँह मेंं ले कर चुसने लगा।

कुछ ही क्षणों मेंं मैंंने देखा कि सुप्रिया आहें एवं सिसकासुप्रियाँ भरने लगी है और अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी शर्मगाह पर हाथ रख कर उसे दबाने लगी थी।

मुझे एहसास हो गया कि मेंरे द्वारा उसके चुचुक चुसने से उसकी शर्मगाह के अन्दर खलबली होनी शुरू हो गई थी और वह उसे दबाने की कोशिश कर रही थी। मैंंने सुप्रिया से अलग होकर तुरंत उसे खड़ा किया और उसकी सलवार का नाड़ा खींच कर खोल दिया, उसकी खुली सलवार नीचे सरक कर फर्श गिर गई और अब वह मेंरे सामने सिर्फ आधी गिठ कपड़े से बनी पेंटी मेंं खड़ी थी।

मैंं अपने को रोक नहीं पाया और मैंंने उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी शर्मगाह पर जब हाथ फेरा तो उसे बहुत गीला पाया। उस गीलेपन को महसूस करते ही मैंं उत्तेजित हो उठा और तब मैंंने सुप्रिया की पेंटी को नीचे की ओर खींच कर उसके पैरों मेंं डाल दिया। अब सुप्रिया मेंरे सामने बिल्कुल नग्न खड़ी थी और अगले ही क्षण मैंं उसके एक नग्न उरोज को चुस रहा था और अपने हाथों से उसके दूसरे उरोज और उसकी शर्मगाह को मसल भी रहा था।

मेंरे चुसने और मसलने की क्सुप्रिया से सुप्रिया बहुत उत्तेजित हो उठी और उसने मेंरे लोअर पर अपना हाथ फेर कर मेंरे लंड को ढूंढने लगी! मैंंने उसकी सहायता करी और उसके हाथ को पकड़ कर अपने लोअर के अंदर डाल दिया! मेंरा लंड उसके हाथ मेंं आते ही उसने लंड और टट्टों को जोर से मसलने लगी और उत्तेजना की वृद्धि के कारण बहुत ही जोर से आहें एवं सिसकासुप्रियाँ भरने लगी!

मैंं उससे अलग हो कर उसकी चुत को चुसने की सोच ही रहा था तभी उसने मुझे अपने से अलग किया और मेंरे कपड़े उतारने शुरू कर दिया। मैंंने भी उसकी सहायता की और शीघ्र ही हम दोनों एक दूसरे के सामने नग्न खड़े थे।

सुप्रिया ने मुझे ऊपर से नीचे देखा और मेंरे लंड को देखते ही अपने दोनों हाथों से अपने खुले मुँह को ढकते हुए बोली:- हाय माँ, इतना बड़ा लंड है तुंम्हारा ! अगर तुम इसे मेंरी चुत के अन्दर डालोगे तो वह तो ज़रूर फट जायेगी और मैंं दर्द के मारे चीखते चिल्लाते मर जाऊँगी!

मैंंने पूछा:- तुम कैसे कहती हो कि यह बहुत बड़ा है?
उसने कहा:- इतना लम्बा और मोटा है, मैंंने तो पहले कभी ऐसा लंड देखा ही नहीं है!
मैंंने कहा:- ऐसे ही बोले जा रही हो, पहले इसे नाप कर तो देख लो, यह ज्यादा बड़ा नहीं है!

मेंरी बात सुन कर सुप्रिया ने मेंरे लंड को पकड़ा और उसे उलट पलट कर देखने लगी और फिर बोली:- लम्बाई मेंं तो यह लगभग छह से सात इंच के बीच मेंं होगा लेकिन मुझे इसकी मोटाई बहुत ज्यादा लग रही है! मुझे डर लग रहा है कि इसकी मोटाई तो मेंरी चुत को बुरी तरह फाड़ कर रख देगी और उसे सिलवाने के लिए किसी डॉक्टर के पास ही जाना पड़ेगा!

सुप्रिया की बात सुन कर मैंंने अपनी हंसी पर नियंत्रण कर के बोला:- ठीक है, तो फिर हम आगे कुछ नहीं करते! तुम अपने कपड़े पहन लो और मैंं तुम्हें थोड़ी देर और पढ़ा देता हूँ!

मेंरी बात सुन कर चुप हो गई और आगे बढ़ कर मुझसे चिपक कर बोली:- नहीं, अब आगे जो करना है वह करो! जो होना होगा वह देखा जाएगा!

उसकी बात सुन कर मैंंने उसे उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया! फिर मैंंने उसकी टाँगे चौड़ी करी और उसकी चुत पर अपना मुँह रख कर उसे चाटने लगा। तभी सुप्रिया मेंरे लंड को खींचने लगी और अपना मुँह खोल कर मुझे इशारे से उसे चुसवाने के लिए कहने लगी।

तब मैंंने 69 की स्तिथि बनाई और अपनी टांगों के बीच उसका सिर करके उसके मुँह मेंं अपना लंड दे दिया।

मैंंने अभी सुप्रिया की चुत को पांच मिनट के लिए ही चाटा था कि वह आईई… आईई… करके चिल्लाई और अपने शरीर को अकड़ाते हुए अपने कूल्हों को ऊँचा उठा कर मेंरे मुँह मेंं अपना पानी छोड़ दिया।

जब उसका थोड़ा नमकीन और थोड़ा खट्टा पानी मुझे अच्छा लगा तब मैंंने सारा का सारा चाट लिया। इसके बाद अगले नौ मिनट मेंं सुप्रिया ने इसी तरह हर तीन मिनट के बाद अपना पानी छोड़ा जिसे मैंं चाटता रहा।

वह आह।। आह… आह… आह… की सिसकासुप्रियाँ निकाल रही थी और मुझसे बार बार लंड को उसकी चुत के अन्दर डालने के लिये आग्रह कर रही थी।

मुझे चुदाई का अनुभव नहीं होने के कारण वह उसे होने वाले दर्द और दिक्कत से डर भी रही थी। मैंंने उसे समझाया कि मुझे जो कुछ भी ब्लू फ्लिम्स देखने तथा दोस्तों से पता चला था उसके अनुसार करने से उसे कोई भी दिक्कत नहीं होने दूंगा।

मेंरे द्वारा उसके भगांकुर पर जीभ से चाटने से बहुत ही गर्म हो गई थी इसलिए उसने कह दिया:- तुम चुदाई शुरू तो करो, जो भी होगा मैंं सह लूंगी!

सुप्रिया ने मेंरे लंड को लौलीपॉप की तरह चुस कर मुझे बहुत ही अधित उत्तेजित कर दिया था जिसके कारण मुझे बहुत मुश्किल हो रही थी। मेंरा लंड उत्तेजना मेंं फूलता जा रहा था और ऐसा लगता था कि वह फटने जा रहा था इसलिए मैंंने अपने लंड को उसके मुँह से बाहर निकाल लिया, फिर सीधा होकर उसकी टांगों के बीच मेंं बैठ गया और पहले उसकी चुत मेंं खूब सारी थूक लगा कर उसमेंं एक उंगली डाली!

उसकी चुत उत्तेजना के कारण बहुत कसी हुई थी और उंगली अन्दर जाते ही वह दर्द से कराहने लगी।

मैंंने उसका ध्यान बंटाने के लिए उसके चुचे भी दबाने लगा तो वह आह… आह… ऊह… ऊह… जैसी सेक्सी आवाजें निकालने लगी। वह बार बार लंड को चुत मेंं डालने के लिए कहने लगी तब मैंंने देर न करते हुए पहले से ही लाये हुए कंडोम को अपने लंड पर चढ़ा लिया, फिर अपने लंड को उसकी चुत के होंठों के बीच मेंं रख कर उसे अन्दर घुसाने की कोशिश करने लगा लेकिन उसकी चुत बहुत कसी हुई थी।

मैंंने उसकी चुत पर अपने लंड को पकड़ कर थोड़ा जोर लगा कर लंड को दबाया तो ‘फक्क’ की आवाज करते हुए उसका सुपारा अन्दर घुस गया। चुत के अन्दर सुपारे के जाते ही वह चिल्लाई:- आहह… हाईई… मर गई, प्लीज मुझे छोड़ दो, बहुत दर्द हो रहा है!

वह जोर जोर से चिल्लाते हुए दर्द से छटपटाने लगी तब मैंंने उसे कस के जकड़ लिया और साथ मेंं उसके होंठों को चुमने लगा और उसकी चुचियों को भी दबाने लगा!

जब वो थोड़ी देर मेंं सामान्य हो गई तब मैंंने उसके होंठों पर अपने होंठ जोर से दबा कर उसकी जीभ अपने मुँह मेंं ले ली और नीचे से अपने लंड को धीरे धीरे अन्दर बाहर करना शुरू दिया!

कुछ देर के बाद जब उसे आनन्द आने लगा मैंंने एक धक्का मारा और तीन इंच से ज्यादा लंड उसकी चुत के अन्दर घुसा दिया।

वह एक बार फिर दर्द से बुरी तरह छटपटाने लगी लेकिन उसकी जीभ मेंरे मुँह मेंं थी और मेंरे होठों से उसके होंठ बंद होने की कारण उसकी आवाज नहीं निकल पाई। मैंंने भी उसे पूरी तरह से अपने नीचे जकड़ा हुआ था जिससे वह हिल भी नहीं पा रही थी। उसकी चुत से खून निकलने लगा था क्योंकि उसकी झिल्ली फट चुकी थी।

मैंं अगले पांच मिनट तक उसे इसी तरह चुमता रहा और उसकी चुचियाँ भी दबाता रहा। जब उसे कुछ ठीक महसूस होने लगा तब मैंं उसके चुचुकों को अपनी उँगलियों से रगड़ने लगा जिससे उसकी उत्तेजना बढ़ गई और उसे दर्द भी काफी कम महसूस होने लगा था।

तब मैंं आहिस्ता आहिस्ता हिलने लगा और अपने लंड को उसकी चुत के अन्दर बाहर करने लगा जिससे सुप्रिया को आनन्द आने लगा था। वह उस आनन्द अनुभूति मेंं बह गई और उसने मुझे आगे करने का इशारा कर दिया, तब मैंंने उसे थोड़ा ढीला छोड़ा और अपने लंड को आगे पीछे करते हुए धीरे धीरे उसे पूरा अन्दर तक घुसा दिया।

अब सुप्रिया की चुत मेंं मेंरा साढ़े छह इंच का लंड पूरा घुस कर अन्दर बाहर हो रहा था।

सुप्रिया अब आह… आह… उह… उह… आह… आउच… आह मर गई… आह… ऒह… की सिसकासुप्रियाँ भरने लगी थी। साथ मेंं वह अपनी कूल्हे उठा उठा कर चुदाई के लिए मेंरा साथ देने लगी थी। हम दोनों के आनन्द मेंं जब कुछ वृद्धि हुई तभी उसके कहने पर मैंंने लंड को तेजी से उसकी चुत के अन्दर बाहर करने लगा। तेज़ चुदाई करते हुए मुझे अभी दो से तीन मिनट ही हुए थे कि सुप्रिया जोर से आईई… करके चिल्लाई और टाँगें भींच कर थोड़ा सा अकड़ते हुए अपना पानी छोड़ दिया।

उस पानी से चुत के अन्दर फिसलन हो गई थी और उसमें मेंरा लंड बहुत ही तेज़ी से अन्दर बाहर होने लगा जिससे कमरे मेंं फच फच की आवाज़ भी गूंजने लगी!

इस फच फच को अभी दो से तीन मिनट ही हुए थे कि सुप्रिया एक बार फिर आईई… करके चिल्लाई और बहुत जोर से टाँगों को भींचते हुए उसका पूरा शरीर अकड़ गया और उसकी चुत सिकुड़ गई तथा मेंरे लंड को जकड़ लिया!

मैंं फिर भी हिलता रहा जिससे हम दोनों को जो रगड़ लगी उसके कारण हम दोनों एक साथ ही झड़ गए।

सुप्रिया उस अकड़न और खिंचावट होने के बाद एकदम निढाल सी बिस्तर पर लेटी रही और मैंं भी थक कर निढाल सा उससे चिपक कर उसके ऊपर ही लेट गया। हम दोनों की साँसें हमारे काबू मेंं नहीं थी हम बुरी तरह हाँफ रहे थे। थोड़ी देर बाद जब मेंरी सांस मेंं सांस आई तब मैंं उसके ऊपर से उठा तो देखा की उठने की चेष्ठा करने पर भी उससे उठा नहीं जा रहा था।

तब मैंंने उसे गोदी मेंं उठाया और अपने साथ ही बाथरूम लेकर जा कर उसकी चुत तथा अपना लंड साफ़ किया!

जब हम वापिस बैडरूम आने लगे तब सुप्रिया से ठीक से चला नहीं जा रहा था इसलिए मैंं उसे सहारा देकर बिस्तर तक लेकर आया! बिस्तर पर बिछी चादर पर जब उसने खून देखा तो वो थोड़ा घबरा गई और उसके चेहरे पर हवाइयाँ उड़ने लगी!

तब मैंंने उसे समझाया कि यह सिर्फ पहली बार ही होता है अब अगली बार जब करेंगे तब खून नहीं आएगा! मेंरी बात सुन कर वह कुछ आश्वस्त दिखाई दी और कपड़े पहन कर घर जाने को तैयार हो गई!

मैंं सुप्रिया को जब उसके घर तक छोड़ने गया तब रास्ते मेंं उसे परामर्श दिया कि चुत की दर्द को दूर करने के लिए वह सोने से पहले उसको गर्म पाने से सेक कर लेगी तो हम कल फिर डुबकी लगा सकते हैं!

सुप्रिया को छोड़ कर वापिस आने के बाद मैंंने बिस्तर की चादर को धोकर सुखाने के लिये डाल दिया और नई साफ़ चादर बिस्तर पर बिछा दी और खाना खाकर सो गया!

अगले दिन सुप्रिया साढ़े पांच बजे ही मेंरे घर आ गई और कहा कि मैंं उसे ‘जल्दी से पढ़ाई करा दूँ क्योंकि उसने मेंरे लंड को डुबकी लगवानी है!’

मैंं भी यही चाहता था इस लिये आधे घंटे मेंं उसे पढ़ा कर हम नीचे वाले बैडरूम आ गए और एक दूसरे को नंगा करके 69 की स्थिति मेंं एक दूसरे को चुस एवं चाट कर उत्तेजित कर दिया। उत्तेजित होने के बाद सुप्रिया को बहुत ही जल्दी थी इसलिए वह बिना प्रतीक्षा करे मेंरे ऊपर चढ़ कर बैठ गई और मेंरा लंड अपनी चुत मेंं डाल कर उछल उछल कर चुदना शुरू कर दिया।

अगले पन्द्रह मिनट मेंं उसने तीन बार अपना पानी छोड़ा और फिर मेंरे नीचे आकर लेट गई और मुझे उसे चोदने के लिए कहा। मैंं इसके लिए तैयार था इसलिए बिना समय गवाएं मैंंने उसकी चुदाई शुरू कर दी और पांच मिनट मेंं ही उसे चरम:-सीमा पर पहुँचा दिया! पिछले दिन की तरह उसने चिल्लाते हुए शरीर के अकड़ाया, चुत को सिकोड़ा और मेंरे साथ ही झड़ गई! फिर मैंं उसी तरह अपने लंड को उसकी चुत मेंं डाले ही उसके साथ कर चिपट कर लेट गया।

थोड़ी देर आराम करने के बाद हमने एक दूसरे को दुबारा तैयार किया और चुदाई शुरू कर दी।

इस बार मेंरा आधा घंटे बाद झड़ा और तब तक वह चार बार झड़ गई! उसके बाद हमने बाथरूम मेंं जाकर एक दूसरे को साफ़ किया और तारो ताज़ा हो अपने कपड़े पहन कर दोनों ने मिल कर बैडरूम को ठीक किया!

जब वह घर जाने लगी तब मुझे चुमते हुए उसने कहा:- आज मुझे बहुत मजा आया है! ख़ास कर दूसरी बार तो इतनी अच्छी चुदाई से तो मुझे पूर्ण संतुष्टि मिली है! आगे जब भी मौका मिलेगा मैंं तुमसे चुदने ज़रूर आऊँगी!

उस दिन के बाद सुप्रिया की शादी होने के दिन तक हमेंं जब भी मौका मिलता था हम चुदाई की डुबकी का खेल जरूर खेलते थे! कभी वह खेल मेंरे घर मेंं अथवा कभी उसके घर मेंं होता था और जब उन दोनों घरों मेंं हमेंं मौका नहीं मिलता था तब हम मेंरे किसी दोस्त के घर या उसकी किसी सहेली के घर मेंं डुबकी का खेल खेलते थे।

आजकल तो मैंं फिर से अकेला ही हूँ और अपनी वासना को श्रीमान अपना हाथ जगन्नाथ से शांत करवा रहा हूँ!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...