loading...

गली की माल मेरे लंड के निचे कैसे आ गयी

मेरी गली की देसी लड़की को मुश्किल से चोदा।

हाय दोस्तो।
रियलकहानी के सभी पाठकों को मेरी तरफ से नमस्कार।
मेरा नाम अनिल है। मै उत्तर प्रदेश का रहने वाला हु। मेरी लंबाई 5’8″ है। मै दिखने मे स्मार्ट नहीं हु। पर एक कसरती बदन का मालिक हु।

आप सोच रहे होंगे कि यह नया चोदू कौन आ गया रियलकहानी पर। मै बताना चाहुगा कि रियलकहानी पर पाठकों की कोई गिनती नहीं हैं और कहानी लिखने वालों की कोई कमी नहीं है।

मै रियलकहानी पर नया हु, दोस्तो, रियलकहानी पर यह मेरी पहली कहानी है।

बात चार:-पाँच साल पुरानी है, तब मै 12 वीं मे पढ़ता था।
गांव की ही एक लड़की थी। जिसका नाम सुषमा (बदला हुआ नाम) था।

क़सम से क्या लड़की थी। वो सांवली रंग की। पर चेहरे की बनावट। हाय। क्या बनाया था ऊपर वाले ने। एकदम झक्कास पीस था।

उसका घर मेरे घर से कुछ आगे के रास्ते मे पड़ता था। जो कि गाँव के चौराहे की तरफ़ जाता था। मेरा जब भी घर से चौराहे या चौराहे से घर आना:-जाना होता था। तो कभी:-कभी उसकी झलक देखने को मिल जाती थी। पर डर के मारे कुछ कह नहीं पाता था, बस उसको चोर नज़रों से देख कर ‘आह।’ भर लेता था।

जब भी मै उसको देखता। तो उसको चोदने का मन करता। पर मौक़ा कब मिलेगा। ये नहीं पता था।

ऐसे ही धीरे:-धीरे कई महीने बीत गए। पर कोई बात नहीं बनी। मुझे तब पता नहीं था कि वो भी मुझे उतना ही चाहती है। जितना कि मै उसे।

एक दिन की बात है, मेरे घरवालों और उसके घरवालों से ज़मीन को लेकर झगड़ा हो रहा था।
मै उसी वक़्त कहीं बाहर से आ गया। देखा कि झगड़ा हो रहा है।

वैसे तो मै किसी से भिड़ता नहीं पर उस दिन मै भी झगड़े मे शामिल हो गया। और इसी झगड़े मे वो भी कुछ न कुछ बोल रही थी और मै भी। वो कभी:-कभी मुस्कुरा देती थी। तो मै भी मुस्कुराये बिना नहीं रह पाता था।

ऐसे ही कुछ दिन मुस्कराहट मे बीत गए, मै समझ नहीं पा रहा था। कि वो मुझे लाइन दे रही थी।

एक दिन शाम को चौराहे पर से घर आते टाइम। वो मुझे गली मे मिली।
मैने उसको देखा तो वो अकेली थी, मैने आस:-पास देखा तो कोई नहीं दिखा। बस मैने मौका अच्छा समझा और उसके पास चिपक कर उसके मम्मों को दबा दिया।
वो चिल्ला कर मुझसे दूर छिटक गई। और उसने मुझे घूर कर देखा।

मै तो डर गया। पर मैने सोचा कि ये तो किसी को बोलेगी नहीं तो बिंदास हो गया।
कुछ दिनों बाद वो मुझसे कुछ बात करने लगी।

धीरे:-धीरे मैने उसको अपने कटघरे मे उतार लिया। अब मुझे उसकी चुत मारनी थी। बस मै उस मौके की तलाश मे था।
एक दिन वो भी आया।

मै शाम को चौराहे पर खड़ा था। 11:00 बजे मै वापस घर आ रहा था। जैसा कि मै बता चुका हु कि उसका घर रास्ते मे पड़ता है। गर्मियों के दिन थे। वो बाहर ही लेटी थी। मतलब जाग रही थी।

मै जैसे ही उसके घर के पास से गुजरा। मुझे उसकी खांसी की आवाज़ सुनाई दी। मै समझ गया कि आज तो चिक्का पार है बेटा। मै वहीं रुक गया। थोड़ी देर ठहरने के बाद। मैने महसूस किया कि वो मेरे पास आ रही है। वो मेरे पास आई। और मुझसे लिपट गई।

यह सब इतनी जल्दी हुआ कि मै सकते मे आ गया।
मै कुछ समझता कि इतने मे वो मुझे घर के अन्दर खींच ले गई।

थोड़ी ही देर मे हम दोनों उसी बिस्तर पर थे। जिस बिस्तर पर वो लेटी थी, दोनों चिपक कर एक:-दूसरे की बाँहों मे थे।

loading...

वो मुझे देखने की कोशिश कर रही थी। पर अँधेरा होने के कारण उसे कुछ दिखाई नहीं दे रहा था। खेल अभी शुरू नहीं हुआ था। पर हम दोनों की गर्म साँसें दोनों के बदन को तपा रही थीं।

मैने अपना हाथ कपड़े के ऊपर से। उसके एक मम्मे पर रख दिया। और सहलाने लगा। उसकी साँसें और गर्म होने लगीं। और वो अपने होंठ मेरे होंठों पर रख कर चूसने लगी।
क्या नरम गुलाबी होंठ थे उसके। मै बता नहीं सकता।

मै उसके चूचों को ज़ोर:-ज़ोर से मसलने लगा। वो गरम हो गई थी।
इधर मेरे लंड मे भी हरकत शुरू हो गई थी। मै नहीं जानता दोस्तो कि उसका यह पहली बार था या दूसरी बार। पर उसको देख कर सब भूल जाने का मन करता था। उस पल तो एक ही ख्याल आता था। कि उसकी बाँहों मे पड़ा रहु।

मै अपने हाथों से उसके दूध मसल रहा था। और होंठों से होंठ। मतलब फेस टू फेस काम चल रहा था। मै धीरे:-धीरे अपना हाथ उसके छाती से लेकर उसके पेट पर सहलाने लगा। मेरा लौड़ा एकदम कड़क हो चुका था और चोंच मारने को बेताब हुए जा रहा था।
उसको भी बहुत मज़ा आ रहा था।

धीरे:-धीरे मैने अपना हाथ उसके सलवार के नाड़े पर पहुँचा दिया। पर उसने मेरा हाथ नाड़े से हटा दिया। मेरे लौड़े और उसके बुर के बीच मे सलवार रूपी जो दीवार थी। उसको तोड़ डालने के लिए मेरा लौड़ा उसकी सलवार के ऊपर से उसके बुर के बार्डर पर फायरिंग करने को तैयार था, उसकी चुत से लगातार टकरा रहा था।

मुझे महसूस हुआ कि वो एकदम गर्म हो गई है।
अब फिर से मेरे हाथ ने हरकत शुरू कर दी और उसके नाड़े की तरफ बढ़ने लगा। इस बार उसने मेरा हाथ नहीं हटाया। मैने एक झटके मे उसके सलवार के नाड़े को खोल दिया और उसके सलवार को थोड़ा सा नीचे खींच दिया।

अब मै अपने हाथ से उसकी चड्डी के ऊपर से ही उसकी चुत सहलाने लगा। उसे मज़ा आ रहा था। उसकी चड्डी पर कुछ गीला:-गीला सा था। मुझे पता चल गया। वो एकदम से गर्म हो गई है।

मै उसकी चुत को उसकी चड्डी के ऊपर से ही रगड़ रहा था। उसकी चुत और पानी छोड़ रही थी। मेरा हाथ गीला हो चुका था। वो जोर:-जोर से सांस ले रही थी। वो इतनी गर्म हो गई थी। कि उसका पूरा बदन ऊपर:-नीचे हो रहा था।

वो इतनी उत्तेजित हो गई थी। इतनी कि अपनी चुतड़ों को ऊपर:-नीचे कर रही थी। वो मेरा पैंट खोलने लगी और मेरे लौड़े को पकड़ कर मसलने लगी।
मै तो जैसे ज़न्नत की सैर कर रहा था। मेरा लंड लोहे की रॉड की तरह कड़क था। वो मेरे लौड़े को मसले जा रही थी और मै उसकी फ़ुद्दी को। हम दोनों इतने गर्म हो गए थे कि अब सब्र करना भारी पड़ रहा था।

उसने चड्डी नीचे सरका दी। और मेरे लौड़े का टोपा अपनी चुत पर सैट कर दिया।
अब वो बोली:- अब पेल दे। बर्दाश्त नहीं हो रहा जानेम!

अब मै भी तैयार था चोंच मारने को। सो लेटे:-लेटे ही मैने अपने लंड को उसकी गुलाबी चुत मे ठोकने को तैयार कर लिया था।
यह कहानी आप रियलकहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

उसकी चुत की गर्मी मुझे पाग़ल बना रही थी। मैने देर ने करते हुए एक धक्का मारा।
उसकी चीख़ निकल गई होती। अगर मेरे होंठों ने उसके होंठ सिले न होते।
मेरे लंड का टोपा उसकी चुत मे घुस चुका था।

वो छटपटाने लगी और कुछ कह रही थी। पर मेरे होंठ से उसके होंठ सिले थे।
तो उसके मुँह से सिर्फ ‘गूं गूं’ की आवाज़ निकल रही थी।

मैने एक और झटका मारा और मेरा लंड उसकी चुत मे थोड़ा और अन्दर घुस गया। उसकी चुत इतनी तंग थी कि मेरा लण्ड आसानी से नहीं घुस पा रहा था। एक और धक्के मे मेरा लण्ड उसकी चुत को फाड़ता हुआ अन्दर दाखिल हो गया।

मेरे लण्ड पर मैने महसूस किया कि उसकी चुत से खून निकल रहा है।
मैने सोचा इसकी तो फट गई। पर थोड़ी देर बाद वो अपनी कमर को उचकाने लगी। और मेरे लण्ड को अन्दर लेने लगी।
मै भी उसको चोदने लगा, मै भी अपने लण्ड को उसकी चुत मे आगे:-पीछे करने लगा।

उसको मज़ा आने लगा, मै ऊपर से चोंच मार रहा था।
कुछ ही देर मे वो अकड़ने लगी। और उसने मेरी कमर को इतनी जोर से पकड़ रखा था। लग रहा था कि मेरी तो जैसे जान निकल जाएगी।

वो मेरी कमर पकड़ कर जोर से अपने ऊपर दबाने लगी। और इसी चुत चुदाई मे वो झड़ गई। मैने भी 5:-7 धक्कों के बाद अपना वीर्य उसकी चुत मे छोड़ दिया।

हम दोनों थक चुके थे।
मै थोड़ी देर उसके ऊपर ही पड़ा रहा। और वो दर्द के मारे कराह रही थी, उसकी मुनिया से खून बह रहा था।
कुछ देर बाद मे उठा और अपने कपड़े पहने। उसको चुम्मी की और उसके बाद मै घर चला आया।

उसके बाद मैने उसको कैसे:-कैसे चोदा। और उसकी खरियाहिया और पनियाहिया दोनों मारीं। ये अगली कहानी मे।

आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी। जरूर बताना।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...