loading...

गर्लफ्रेंड और उसकी सहेली की गजब चुदाई

Chut chudai ki kahani, antarvasna hindi sex story, desi kahani, chudai story, sex kahani। गर्लफ्रेंड और उसकी सहेली की एक साथ चुदाई। दोस्तो, मैं अंकु, मैं दिखनें मे एकदम गोरा तो नहीं हूँ, पर काला भी नहीं हूँ, मतलब गेहुआं से रंग का हूँ.
मेरी उम्र 25 साल, कद 170 सेंटीमीटर है और मेरे लंड का साइज़ 7.5 इंच लम्बा व गोलाई मे 3 इंच मोटा है, पूरा सीधा लंड है, इसका सुपारा गुलाबी है और सूसू करनें के छेद कुछ ज्यादा बड़ा है.
मैंनें एक साल जिम मे दिया है, जिससे थोड़े बहुत मसल्स बन गए हैं और मेरा मर्दाना चौड़ा सीना भी बाहर को फूल गया है.
मैं मूलतः अलाहाबाद से हूँ, कुछ महीनों के लिए दिल्ली मे हूँ.

मैं रियलकहानी का नियमित पाठक हूँ और यहाँ पर रोज हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़नें का आनन्द लेता हूँ, इसकी रसीली स्टोरीज पढ़कर न जानें कितनी ही बार हाथ से गाड़ी चलाता हूँ.

उन सभी लेखकों को धन्यवाद, जो इतनी कामुक स्टोरीज लिखते हैं. आप सबसे बस यह निवेदन है कि कृपया लड़कियों का फिगर मतलब उसके मम्मों का नाप, कमर, और चुतड़ों के आकार को जरूर विस्तार से लिखिएगा, इससे दिमाग मे लड़कियों की छवि बनानें मे आसानी होती है.

आज मैंनें भी सोचा कि क्यों न अपनी कहानी लिखी जाए, मेरे जीवन मे भी बहुत से मौके आए और बहुत से मौकों मे चौके भी मारे.
उनमे से ही एक कहानी आज मैं यहाँ पेश कर रहा हूँ, पसंद आए तो बड़ाई और ना पसंद आए तो शिकायत के लिए मेरी ईमेल आईडी पर आप ईमेल कर सकते हैं, या फ़ेसबुक पर भी आप सेम आईडी से मुझसे मिल सकते हैं.

दोस्तो, मैं ‘वन गर्ल मैन’ हुआ करता था, क्योंकि मेरी गर्लफ्रेण्ड नें ही मुझे सब कुछ सिखाया था. मैं बहुत सीधा टाइप था, और मैं कभी अपनी हद पार नहीं करता था.

मेरी यह स्टोरी मेरी गर्ल फ्रेंड के बारे मे है, जिसका नाम आयशा है, उसका फिगर 36-30-34 का है, गेहुआं रंग, हमारे रिश्ते को दो साल हो चुके थे. हमनें खूब सेक्स एंजाय किया, और हमारे बीच बेहद प्यार भी था, इतना कि उसकी सहेलियाँ मुझको मेरी गर्लफ्रेण्ड के साथ देख कर जलती थीं.

एक दिन हम दोनों नें मूवी देखना का प्लान बनाया और हम पेसिफिक मॉल मे मूवी देखनें गए. मेरा तो हमेशा से मन रहा है कि लड़की की चुदाई को हर आसन मे और हर जगह पर चोदूं, और तब तक चोदूँ जब तक वो रो न दे.

तो बस मेरे दिमाग़ मे खुराफाती ख्याल आनें लगे थे, और मूवी का नाम भी ‘जिस्म-2’ था.

हम दोनों तय समय मे पेसिफिक मॉल मे पहुँच गए, हम लोग अपनी सीट्स पर पहुँचे, कॉर्नर सीट्स ही ली थी लेकिन ऊपर से दूसरी लाइन मे सीधे हाथ की कोनें की सीट थीं.

हम हॉल मे थोड़ा लेट घुसे थे, तो उस वक्त किसी दूसरी मूवी का ट्रेलर चालू था. फिलहाल हम अपनी सीट पर पहुँचे और बैठ गए. मैंनें देखा कि हमारी बगल वाली सीट पर कोई नहीं था और दूसरे कॉर्नर मे शायद एक कपल और बैठा था, हॉल की लाइट्स ऑफ हो गई थीं, मतलब हॉल मे पूरा अंधेरा हो गया था.

मैं सबसे किनारे पर बैठा था.
मैंनें एक ढीली सी जीन्स और एक टी-शर्ट और मेरी गर्लफ्रेण्ड नें भी एक ढीली सी जीन्स और ढीला टॉप पहना था, जिसकी बाहें भी काफी चौड़ी थीं जो कि मेरी मैडम का प्लान था.

हम दोनों मूवी देखनें लगे, करीब आधे घंटे बाद हम दोनों थोड़ा अपनी हरकतें करनें लगे, वो मुझको सहलानें लगी. मेरी कमजोरी है, मैं उसके सिर्फ स्पर्श करनें से ही गर्म हो जाता हूँ, उसका स्पर्श ही इतना ख़ास था कि कुछ मिनटों मे मेरे लंड महाराज गर्म होकर हरकतें करनें लग गए और मेरी जीन्स मे अकड़नें लगे.

अब उसनें अपना एक हाथ मेरी टी-शर्ट के किनारे से डाला, और मेरे सीनें पर उंगलियां फेरनें लगी.
मेरे सीनें मे बाल है, जो उसको बहुत पसंद हैं.
धीरे-धीरे वो मेरे सीनें के निप्पल्स को सहलानें लगी, जिससे मैं गर्म हो गया, और मेरा लंड फनफनानें लगा.

अब उसनें देर न करते हुए, अपना वही हाथ मेरी जीन्स के अन्दर डालना शुरू कर दिया. मैंनें पहले से ही अपनी बेल्ट ढीली कर ली थी, और वो मेरे लंड के अगले भाग को अपनें अंगूठे से मेरी चड्डी के ऊपर से ही दबानें लगी, जिससे मैं पगला सा गया.

अब उसनें मेरी ‘अमूल माचो’ की चड्डी के बीच से मेरा मजबूत, लम्बा, सख्त, मोटा-तगड़ा लंड जीन्स के अन्दर ही, लेकिन चड्डी के बीच के छेद से बाहर निकाल लिया और धीरे-धीरे उसे मसलनें लगी.
यह कहानी आप रियलकहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

अब मैंनें भी कंट्रोल छोड़ दिया, और उसको बेतहाशा स्मूच करनें लगा, उसके रस भरे होंठों को चूस रहा था, और अपनें एक हाथ को उसके टॉप के नीचे से डाल दिया. उसनें अपनें ऊपर बैग रख लिया था, जिससे कोई देखे तो भी किसी किस्म का शक न हो.
मैं उसकी समीज के अन्दर से, उसके ब्रा के ऊपर से ही उसके निप्पल्स को उंगली से कसकर मसलनें लगा, जिससे उसनें स्मूच छोड़ कर सांस लेनें के लिए होंठ अलग किए, और तुरंत ही मैंनें फिर से उसके होंठों को गप्प से अन्दर कर लिया, और मैं उसके होंठों की खूब चुसाई करनें लगा.

loading...

फिर मैंनें हाथ पीछे ले जाकर उसकी ब्रा खोल दी, अपनें एक ही हाथ से, जिसमे मैं बहुत एक्सपर्ट हूँ.
ब्रा खुलते ही उसके भारी मम्मे जो 36 भी साइज़ के हैं, बाहर को आ गए. मैंनें तुरंत ही उसकी ब्रा के अन्दर हाथ डाल दिया और उसके निप्पल्स को रगड़नें और मसलनें लगा.

अब मैंनें उसका टॉप ऊपर करके उसके दायें मम्मे को हल्का बाहर निकाला, उसके चूचुक को खूब चूसा, लेकिन उस पोजीशन मे अधिक चुसाई नहीं हो पाई, पर वो बहुत ज्यादा गरम हो गई और उसनें मस्ती मे अपनी आँखें बंद कर लीं. इसी के साथ उसनें मेरे लंड पर अपनी पकड़ और मजबूत कर ली और मेरे लौड़े को आगे-पीछे करनें लगी. इससे मेरे लंड मे भी नसें फटनें को हो गईं.

हमारी स्मूच अभी भी जारी थी, लेकिन उसकी तरफ से चूमनें की रफ्तार धीमी हो गई थी. मैं उसके बड़े मम्मों को, जो मेरे हाथ मे भी पूरे नहीं आ रहे थे, तब भी अपनें हाथों मे पूरे भर कर दबानें की कोशिश किए जा रहा था. मैं उसके अपनी तरफ वाले मम्मे को अपनें लेफ्ट हैंड से मसल रहा था, खूब दबा रहा था.

अब उसनें होंठ हटाए और बहुत धीमे स्वर मे ‘आहें,’ भरनें लगी. मैंनें आव देखा न ताव, उसी हाथ को, उसकी जीन्स तक ले गया, और उसकी जीन्स मे डालनें लगा. उसनें भी कोई आपत्ति नहीं की.

मैंनें जीन्स के अन्दर से ही उसकी पैन्टी के अन्दर ही डालते ही देखा, तो मुझे महसूस हुआ कि उसकी पैन्टी गीली हो चुकी थी. मतलब वो बहुत गरमा गई थी.

वो मेरे कान के पास आकर बोली- आह्ह, जान, चोद दो मेरी चुत मे फिंगरिंग करो न,
उसनें अपनी टाँगें चौड़ी कर लीं ताकि मैं आसानी से सब कुछ कर सकूँ.

मैंनें उसकी जीन्स को थोड़ा नीचे की तरफ खिसकाया ताकि उसकी चुत को कुरेदनें के लिए थोड़ी जगह बन जाए. फिर मैंनें सीधे ही पहले एक उंगली डाली ही थी कि वो पगला सी गई, और मेरे लंड को तेजी से दबानें, मसलनें लगी.

कुछेक मिनट तक मैंनें एक उंगली से उसकी चुत की चुदाई की.
तभी वो चुदासी सी आवाज मे बोली- जान, दूसरी भी पेल दो,
मैंनें झट से दूसरी उंगली भी डाल दी, और लगा उसको चोदनें,

उसनें मद्धम स्वर मे सीत्कार हुए कहा- जान, आह्ह, तेज, और तेज करो,
मैंनें स्पीड बढ़ाई, करीब 3 से 5 मिनट लगातार फिंगरिंग की, वो एकदम से अकड़ सी गई, और मेरे लंड को तो उसनें जैसे नोंच ही लिया हो,
जब तक उसका पानी नहीं निकल गया, उसनें मेरे लौड़े पर अपना अत्याचार जारी रखा.

फिर झड़ते ही उसनें अपनी पकड़ ढीली कर दी, और उसकी चुत के पानी नें मेरी दोनों उंगलियों को पूरा चिप-चिपा सा कर दिया, मैंनें हाथ निकाला और तुरंत उसके स्कार्फ़ से अपना हाथ को पोंछा.

वो अब चुत झड़ जानें से संतोष पा चुकी थी, लेकिन मैंनें उसको कान मे बोला- हनी, अब मेरी बारी,
उसनें कहा- जान, आज बहुत मजा आया, सच्ची, बोलो क्या करवाना है जान?
मैंनें बोला- मुँह से तो चूस नहीं सकती, हैंड-वर्क ही कर दो,

उसनें अपनें आगे वाली सीट्स को देखा कि कोई पीछे तो नहीं देख रहा, जब संतुष्ट हुई, तो उसनें वही पिट्ठू बैग, जो वो अपनी चुत पर रखे हुई थी, मुझको दिया और धीरे से मेरे लंड मेरी जीन्स के बटन को और ज़िप को खोलकर बाहर निकाल लिया.

मेरी आदत है, कि नहानें के बाद लंड को तेल जरूर लगाता हूँ और हल्की मालिश भी करता हूँ.

उसनें जैसे ही जीन्स से बाहर मेरा लम्बा-मोटा सीधा लंड निकाला, तो एक हल्की सी तेल वाली खुश्बू आई, जिससे महसूस करके वो पागल हो गई, उसनें एक बार फिर आगे देखा, और हल्का सा नीचे झुकी और एक बार मे मेरा आधा लंड अपनें मुँह के अन्दर ‘गप्प’ से डाल लिया, और जल्दी-जल्दी 6 से 7 बार अन्दर-बाहर किया.

इसी बीच वो उठनें लगी, तो मैंनें बैग उसके ऊपर से रख लिया और उसके मुँह को अपनें लंड के ऊपर दबा दिया. अब मैं जबरदस्ती पूरा लौड़ा उसके हलक मे डालनें लगा. लेकिन मेरा लंड लम्बा बहुत था, तो पूरा वो कभी ले ही नहीं पाई थी, यदि किसी पोर्न स्टार के जैसे लेती, तो उसके आंसू निकल जाते थे.

फिर उसकी सांस उखड़ी, तो झट से अचानक ऊपर को हुई, और मैंनें महसूस किया कि उसके हल्के से आंसू आ गए थे, उसनें अपनें मुँह को और मेरे लंड को स्कार्फ़ से पोंछा, और अब अपनें सीधे हाथ से मेरे लौड़े को तेज-तेज, बहुत तेजी से ‘हैंडवर्क’ देनें लगी. अब मैं भी आँखें बंद करके बैठ गया, और लंड चुसाई का मजा लेनें लगा.

दोस्तो, मुझे बहुत मजा आ रहा था, पर इस मजे के बीच मे उसकी सहेलियां कहाँ से आईं ये आपको अगले हिस्से मे कल लिखूँगा.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...