loading...

गर्लफ्रेंड और उसकी सहेली की गजब चुदाई – 2

Chut chudai ki kahani, antarvasna hindi sex story, desi kahani, chudai story, sex kahani। एक गजब चुदाई की कहानी, गर्लफ्रेंड और उसकी सहेली की एक साथ चुदाई।

जगज़ब चुदाई की कहानी अन्तर्वासना।

उसने गति और तेज बढ़ाई,
चूंकि मुझको झड़ने मे काफी टाइम लगता है, तो उसने पूछा- कब तक आने वाला है जान?
मैंने बोला- बस थोड़ा और,
मैं अपने हाथ को उसके हाथ के ऊपर रख कर आगे-पीछे करने लगा।

इस कहानी का पहला पार्ट

गर्लफ्रेंड और उसकी सहेली की गजब चुदाई

फिर थोड़ी देर बाद उसके हाथ दर्द करने लगे, तो उसने हाथ हटा लिया,
उसने हाथ हटाया ही था कि साला इंटरवल करने से पहले ही कमीनों ने लाइट जला दी और मैं खड़े लंड पर कंट्रोल नहीं कर पा रहा था, वैसे भी मैं चरम सीमा पर था।

फिर मैं खुद ही अपने लंड को खूब तेज-तेज आगे-पीछे करने लगा। कुछ ही सेकण्ड्स करने के बाद मेरा पानी तेज धार के साथ निकला, जो सामने वाली सीट पर जाकर ‘छपाक’ से लगा, गनीमत है कि सीट बड़ी होती है, सो पुश्त पर ही माल चिपक गया था।
मैंने चैन की सांस ली- आह्ह,

मैंने देखा कि मेरी गर्लफ्रेण्ड आयशा अपने कपड़े सही कर रही थी, और सब लोग सीटों से उठने लगे थे।

फिर आयशा ने बैग तुरंत मेरे लंड के ऊपर रख दिया और बैग के नीचे ही उसका स्कार्फ़ था, जिससे मैंने झट से लंड पोंछ लिया। लंड को चड्डी मैं डालने का टाइम नहीं था, तो ऐसे ही जीन्स के अन्दर डालकर ज़िप बंद कर ली, और बेल्ट हल्की टाइट कर ली। फिर तुरंत बैग आगे को लेकर उठने लगा, हम दोनों साथ ही उठे थे। जैसे ही हम दोनों अपनी तरफ से बाहर निकलने लगे, तो आयशा ने देखा कि हमारी पीछे की सीट मे उसकी एक सीनियर मैम सुरभि और एक बैचमेट प्रियंका बैठी थी, जो उठ कर निकल रही थी।

उन्होंने आयशा को देख कर तुरंत ‘हाय’ बोला, आयशा सोच मे डूब गई, और सोचने लगी कि क्या बोलूं,
उसने बोला- अरे प्रियंका, तू यहाँ, बताया नहीं, मैं तेरे साथ ही आ जाती।
फिर उसने मैम की तरफ देख कर बोली- गुडआफ्टर नून मैम,

बैचमेट प्रियंका को मेरी गर्लफ्रेण्ड आयशा ने मेरे बारे मे पहले से ही बता रखा था। यहाँ तक कि मैं भी प्रियंका को जानता हूँ, मैंने उसकी कई पिक्स देखी हैं और कई बार छोटी मोटी मुलाकातें भी हुई हैं।

लेकिन मैम को भी कुछ समझ नहीं आया और वो थोड़ा अटपटा सा, पर नार्मल सा रियेक्ट कर रही थीं।

फिलहाल इंटरवल मे अब हम चारों बाहर आए।

मैं टॉयलेट मे चला गया, और गर्ल्स भी वाशरूम की ओर निकल गईं। मैं वापस आया तो मैंने देखा कि प्रियंका बैचमेट, मेरी गर्लफ्रेण्ड आयशा को अलग ले जाकर बात कर रही थी और उसकी सीनियर मैम सुरभि, पॉपकॉर्न लेने लगी थी।

प्रियंका ने मुझको देखा तो वो लोग अलग हो गए, और नार्मल रियेक्ट करने लगे।
फिर हम इंटरवल के बाद फिल्म देखने गए और इस बार हमारे बाजू की सीट्स खाली ही थीं, तो वो दोनों भी सीधे वाले कार्नर मे हमारे साथ ही बैठ गईं।

अब स्थिति कुछ इस प्रकार थी कि पहले सुरभि, प्रियंका, आयशा, फिर मैं एकदम दूसरी तरफ।

सुरभि का फिगर अंदाजन 36-30-36 का रहा होगा, प्रियंका का फिगर लगभग 34-28-34 का था।

अब मूवी स्टार्ट हुई, तो गरम सीन्स अभी आने स्टार्ट हुए थे, मैं फिर गरम होने लगा था, लेकिन अब कुछ डर लग रहा था, तो बस अपनी किस्मत को कोस रहा था। शायद आयशा भी गरमा रही थी, तो वो मेरे कान मे आकर बोली- जान, प्रियंका ने हमारा पूरा सीन देखा है।

मैं चौंका, मैं एकदम शॉक्ड तो था, लेकिन आयशा बोली- मुझको खुद प्रियंका ने बताया है।
मैं थोड़ा लज्जित सा महसूस करने लगा, और शायद थोड़ी वो भी शर्मा रही थी।

फिर मैंने पूछा- और तुम्हारी सीनियर मैम सुरभि ने भी देखा क्या??
आयशा बोली- प्रियंका ने तो अपना बताया, और मैम ने प्रियंका से ऐसी कोई बात नहीं की, तो पता नहीं मैम ने देखा कि नहीं,
मैंने बोला- समझा लेना प्रियंका को कि वो मैम को न बताए,

loading...

फिलहाल हम मूवी देखने लगे, मैं गरम हो रहा था, तो उसके साइड से खुली आस्तीनों से मैं हल्के से हाथ डालकर उसके मस्त मम्मों को स्पर्श करने लगा। तो आयशा ने जो बैग ढीला सा पकड़ा हुआ था, उसने अपने मम्मों तक कर लिया,। मैंने तुरंत ही उसकी ब्रा खोल दी, और झट से हाथ अपना हाथ उसके मम्मों मे उगे हुए अंगूरों की ओर ले गया, और चूचुक भींचने लगा, कसके मसलने लगा, वो गरम हो रही थी।

हम दोनों ने प्रियंका को इग्नोर करना स्टार्ट किया क्योंकि उससे तो हमे कोई भय ही नहीं था और वो भी मूवी देख रही थी।
फिर जब देखा प्रियंका मूवी मे बिजी है, तो मैं हल्के से स्मूच करने लगा।

लेकिन क्या पता था कि वो अपनी चोर निगाहों से देख रही थी, और देखे भी क्यों नहीं, हम कारनामा ऐसा जो कर रहे थे।

हम खूब एक-दूसरे के होंठों को चूस रहे थे, मैं उसकी गर्दन पर भी चुम्बन कर रहा था, तो गरम हो गई, मैं फिर से अपना हाथ उसकी चूत तक ले जाने लगा, लेकिन इस टाइम जीन्स बटन लगे होने के कारण टाइट थी।
तो मेरा हाथ देर से अन्दर जा पाया, और थोड़ा सा ही गया।

मैंने उंगली करनी चाही, तो उसने पैर फैला लिए, मैं जैसे ही उंगली करने लगा, तो उसका बैग हिलने लगा, जिससे प्रियंका ने एक झटके मे हमारी तरफ देखा, लेकिन आयशा मेरी तरफ मुँह करके बैठी थी सो उसने नहीं देख पाया कि उसकी सहेली हम दोनों की हरकत देख रही है, पर मैंने देखा कि उसने देख लिया था।

उसने आगे मुँह कर लिया, मैंने उसे नजरअंदाज किया, और इस बात को समझ कर मुझको बहुत तेज उत्तेजना होने लगी,
मैंने आयशा का हाथ लिया, और अपने लंड के ऊपर जीन्स के ऊपर से ही रख दिया। वो भी अब उसको मस्ती से दबाने लगी।

फिर मैंने उसकी चूत मे दूसरी उंगली डाली, तो और ‘तेज,तेज, करो,’ का इशारा करने लगी मैं तेज-तेज उंगली चलाने लगा।

आयशा गरम होकर मेरा लंड कसके दबोच रही थी और जीन्स के ऊपर से ही, मेरे लंड पर मजबूत पकड़ बना कर कसके दबा रही थी।
उसका पानी निकल गया, उसने लम्बी सांस ली और उसने मेरे लंड से तुरंत हाथ हटा लिए।

जैसे ही उसको याद आया कि बगल मे कोई और भी है, वो फिर से सजग हो गई।
फिर उसने मेरे हाथ को पोंछा, और हल्के से खुद का हाथ डालकर उसने अपनी जीन्स को सही किया।

मेरा काम अभी नहीं हुआ था सो मैंने उसका हाथ जबरदस्ती अपने लंड पर हाथ रख दिया, तो उसने हटा लिया।

उसने कहा- जान कोई और भी है,
तो मैंने बोला- तो क्या हुआ, मैम तो दूर हैं, प्रियंका ने देखा भी, तो उसे समझा देना, लेकिन प्लीज़ कर दो, अब कंट्रोल नहीं हो रहा,

उसने मुँह बना कर बैग मेरे ऊपर फेंक दिया, और थोड़ी तेज आवाज मे कहा ताकि प्रियंका सुन सके।
‘लो अब तुम पकड़ो, इतनी देर से पकड़ रखा है,’

मेरी तरफ देख कर बोला मैं उसकी तरफ देख रहा था तो देखा कि प्रियंका, आयशा की तरफ देख रही थी।
मैंने देखा तो उसने नजरें चुरा लीं,
यह कहानी आप रियलकहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

हम दोनों नार्मल हो गए, फिर थोड़ी देर बाद आयशा ने हाथ डाला और इस बार मैंने पहले से ही ज़िप खोल रखी थी।
वो थोड़ी चौंकी और फिर शरारत वाली हंसी मे हँस दी, उसने कस कर झटके से ही मेरे लौड़े को तुरंत दबोच लिया, और तेज-तेज हिलाने लगी, जिस वजह से न चाहते हुए भी बैग हिलने लगा, और प्रियंका ने फिर मेरी तरफ देखा, मैंने अवाइड कर दिया।

आयशा तेज-तेज लंड हिला रही थी, हमे पता ही नहीं चला, कि कब मूवी का लास्ट सीन खत्म होने जा रहा और देखा तो मेरा फॉल हुआ ही नहीं था कि साली लाइट फिर से जल गईं। मैं शॉक्ड था, आयशा भी बुत सी बन गई थी, कि आज तो कुछ पता ही नहीं चला।

मैं डर के मारे जल्दी से अपना लंड अन्दर डालने लगा, तब तक प्रियंका ने उसके कान मे बोला- अरे आयशा, बाकी का बाद मे हिला लेना अब, एक बार तो हो गया था न उसका,

आयशा चौंक गई,
(उसने यह बात बाद मे फोन पर बताई थी)

फिर आयशा थोड़ा शरमाई और ढीठपन के स्वर मे बोली- चल, अच्छा धीरे बोल, मैम सुन लेंगी,
इतने मे प्रियंका फिर आयशा के कान मे बोली- अरे आयशा मैडम, अपनी ब्रा तो बंद कर ले,
वो हल्की हँसी और गुस्से मे बोली- तू ही बंद कर दे न,
प्रियंका बोली- ला बंद कर दूँ, नहीं तो सबसे सामने निकल भागेंगे,

फिर प्रियंका ने उसकी जल्दी से ब्रा बंद की, मैंने देखा तो चौंका, फिलहाल उस दिन हम दोनों मूवी के बाद अपने-अपने रास्ते निकल गए, मैं घर की ओर आयशा अपने हॉस्टल की ओर,

 

loading...