loading...

मस्त गाँड वाली पडोसी भाभी को चोद दिया

Pados ki bhabhi ko choda. Gand ki chudai.
मै एक जवान एथलीट बॉडी का 5’9″ लंबाई का और मीडियम चेस्ट वाला 21 साल का लड़का हूँ. मेरा लंड आम लौड़ों से काफी लंबा है.
बात उस समय की है. जब मै तीन साल पहले जयपुर में कमरा लेकर विशेष परीक्षा की तैयारी कर रहा था.

जिस मकान में मै रहता था उसी मकान में एक भाभी भी किराए से रहती थीं. भाभी पता नहीं कब से वहाँ रह रही थी. पर जब मै वहाँ रहने लगा. तो मैने मन ही मन सोचा कि आज दिन तक किसी को नहीं चोदा है. क्यों ना इस भाभी को ही ट्राई कर लिया जाए.

  • इस तरह से उन्हें चोदने की इच्छा प्रबल हो गई.

भाभी करीब 35 साल की अच्छे मोटे उभार और मस्त मटकती गांड वाली माल थीं. दिखने में चेहरे से ज़्यादा खूबसूरत नहीं थीं. पर जब कभी वो सामने से मुड़कर जातीं तो उनकी गांड मेरे दिमाग़ में एक अलग सी हलचल पैदा कर देती.
मैने चेहरे पर मुहासों के बारे ऐसा सुना था कि जिसकी सेक्स करने की इच्छा ज़्यादा होती है. उनके चेहरे पर मुहांसे ज़्यादा और जल्दी होते हैं.
मैने इसी बात का फायदा उठाकर एक बार उनसे पूछा- भाभी जी ये मुहांसों का क्या इलाज है. ये क्यों होते हैं और कैसे होते हैं?

तो भाभी जी ज़रा सी मुस्कुराईं और बिना जवाब दिए वहाँ से चली गईं.

  • मुझे लगा कि शायद उनको भी मुहांसे के बारे में वही पता है. जो मै मानता हूँ.
  • अब मै उनके साथ कभी-कभी ज़्यादा समय बिताने लगा था.

एक दिन मैने बातों ही बातों में ही उनसे उनके पति के बारे में पूछा. तो उन्होंने बताया- मेरे पति दिल्ली में नौकरी करते हैं. और दो महीने में एक बार मुझसे मिलने आते हैं.
मतलब मुझे समझ में आ गया था कि इस तरह से उनकी सेक्स लाइफ बिल्कुल बेकार हो रही थी.

जब भी वो मुझे अकेले में मिलतीं. तो मै उन्हें किसी ना किसी तरह छेड़ देता था. तो वो मुस्कुराकर निकल जाती थीं.
एक दिन जब मै जल्दी उठा. तो वो ऊपर की बालकनी में झाड़ू लगा रही थीं. उस समय मकान के सभी किराएदार सोए हुए थे.
मौका देखकर मैने उनका रास्ता रोक लिया. जैसे ही वो वहाँ से गुजरने लगीं. तो शायद मेरे हाथ से उनका बूब दब गया. तो उन्होंने सकपका कर बोला- ये अभी क्या कर रहे हो. कोई जाग रहा होगा तो पता चल जाएगा.
इतनी बात से मै समझ गया कि इनको मुझसे कोई आपत्ति नहीं है. वो ऊपर की झाड़ू लगाने के बाद ग्राउंड फ्लोर पर सीड़ियों के पास सफाई करने लगीं.

 

 

 

मेरा रूम सीढ़ियों के पास होने से मुझे पता चल गया और मैने बाहर निकल कर चारों और देख कर उनके मम्मों को मसलना शुरू कर दिया.


पहले तो मेरा हाथ उनके मम्मों पर गए फिर धीरे-धीरे मेरे हाथ उनकी चूत के उभार पर पहुँच गया और हल्के से ऊपर से ही सहलाने लगा.

उन्होंने भी मेरे लंड को मसल दिया.

लेकिन इतने में मेरी कोचिंग का समय हो गया था.
दरअसल जब मै कमरे के बाहर निकला. तब वो भी वहीं पर झाड़ू लगाने पहुँची थीं. तो मेरा कोचिंग जाने का टाइम होने के कारण मै चला गया और वापिस दो बजे कमरे पर आया. मै कपड़े बदल कर खुद फ्रेश होने के लिए ऊपर वाली छत के बाथरूम में चला गया.
जब वापिस नीचे आने लगा. तो उन्होंने पूछा- अब क्या करोगे?

loading...

मैने बोला- चाय बनाऊँगा.

उन्होंने पूछा- मेरे लिए भी बनाओगे क्या?

तो मैने हाँ में जवाब दिया और उनको भी नीचे अपने कमरे में बुला लिया.
दोपहर का टाइम था. मैने चाय गैस पर बनने के लिए रख दी और भाभी के साइड में जाकर बैठ गया.
मैने झिझकते हुए उनके कंधे पर अपना हाथ रखा. तो उन्होंने कुछ नहीं बोला. मेरी हिम्मत और बढ़ गई और मेरा हाथ उनकी कमर पर पहुँच गया.
इतने में मै कुछ ज़्यादा ही उत्तेजित हो गया और गैस को बंद करके उसे लिटाने की कोशिश करने लगा.

एक बार तो उन्होंने मना कर दिया और बोला- फिर कभी करेंगे.

मै नहीं माना और मैने उनको नीचे फर्श पर दरी बिछाकर लिटा दिया और मै उनके ऊपर चढ़ गया.
मैने पहली बार किसी औरत से अपने शरीर के मिलन का अनुभव लिया था. जब मै उनके ऊपर लेटा हुआ था. तब का पल मुझे बहुत ही सुखद महसूस हो रहा था.
अब मैने धीरे से उनकी साड़ी को नीचे से हटाना शुरू किया. जब मैने साड़ी हटाई तो उनकी मरमरी और गोरी चिकनी जांघें देख कर ही मै दंग रह गया.
हाय… क्या मस्त गोरी-गोरी जांघें थीं. उन्हें देख कर मै पागल हुए जा रहा था.
उस समय पहले मैने अपने लंड की भूख मिटाना उचित समझा और मैने अपनी जीन्स की ज़िप खोल कर लंड को बाहर निकाला. फिर मैने अपने लंड का सुपारा उनकी चूत के छेद पर लगा दिया और एक ही धक्के में मैने पूरा लंड उनकी चूत में पेल दिया.
कुछ मिनट के बाद मेरा वीर्य उनकी चूत में ही छूट गया. चुदाई का खेल जल्द ही खत्म हो गया था.

फिर मैने उनको चाय पिलाकर भेज दिया.
उसी दिन शाम को मै कहीं से घूम कर आया और ऊपर बाथरूम में पानी से अपने को धोने के लिए गया. तो वो वहीं बाहर ही बैठी मिल गईं.
मैने उनको हल्के से इशारे से मेरे कमरे में आने का कहा. उसके बाद मै अपने कमरे में आकर बैठा ही था कि वो भी पीछे से आ गईं.

मैने कमरे के गेट को अन्दर से बन्द कर दिया.

अब हम दोनों फिर से कमरे के अन्दर अकेले ही थे.
इस बार मै कोई जल्दबाज़ी नहीं करने वाला था. पहले मैने उनको कुर्सी पर बिठाया. मैने सर्दी में ओढ़ने के कंबल को बिस्तर को ठीक करके उसके ऊपर बिछा दिया. ताकि गद्दा मुलायम सा बन जाए.
अब मैने उनको बिस्तर पर बिठाया और मै उनके साइड में जाकर बैठ गया.

मैने साइड में बैठते हुए ही सीधा उनकी कमर पर हाथ रख दिया और मैने उनकी कमर को पीछे से धीरे-धीरे सहलाना शुरू किया.
धीरे-धीरे मेरा हाथ उनकी गांड की दरार में थोड़ा सा अन्दर डाल दिया और एक हाथ को उनकी गर्दन के आगे वाले भाग पर पहुँचा दिया.
अब मेरा एक हाथ बहुत ही धीरे-धीरे पेटीकोट के नाड़े के सहारे साइड में आ गया और मेरा दायाँ हाथ सहलाते हुए उनके उभारों पर कुरती के ऊपर पहुँच गया. मैने धीरे-धीरे उनकी कुरती के बटनों को खोलना शुरू कर दिया. साथ ही मै बाएँ हाथ से उनकी कमर सहलाता रहा.

उनकी कुरती के बटनों को खोलने के बाद मै उनके पीछे की साइड में आ गया. अब मेरा एक हाथ उनके उभारों पर और दूसरा हाथ कमर पर आगे की ओर सहला रहा था.
एक हाथ मेरा उनके कपड़ों में से चूत पर सहलाते हुए पहुँच गया. अब मै एक हाथ से उनके मम्मों को दबाने लगा.

वो सिसकारियाँ भरने लगीं.
मैने अब उनको लिटा दिया और उनके ऊपर झुक कर किस करने लगा. साथ ही दोनों हाथों से उनके मम्मों भी दबाने लगा. वो ज़ोर ज़ोर से सिसकारियाँ भरने लगीं.
मै उनके मम्मों को और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा. मैने किस करते हुए अपनी जीभ उनके होंठों में घुसा दी और वो भी मेरा साथ देने लगीं.
इस तरह से देर तक ‘लिप-किस’ करने के बाद मैने उनके मम्मों पर चुम्मा करना शुरू किया और उनको चूसने लगा.
फिर मैने उनको आलती-पालथी करके बिठाया और अपना सिर उनकी गोद में रख दिया. अब मै एक बच्चे की तरह उनके मम्मों को चूसने लग गया. देर तक मम्मों को चूसने के बाद उसी अवस्था में मैने उनकी नाभि पर किस किया और धीरे-धीरे मेरा मुँह उनकी चूत के दाने पर पहुँच गया.
इस अवस्था में ठीक से नहीं होने के कारण मैने उनको पहले के जैसे ही लिटा दिया और चूत के दाने को होंठों में लेकर ज़ोर से दबा दिया. इससे उनकी एक मादक आवाज़ में ‘आह्ह.’ निकल पड़ी.
इसके साथ ही मैने अपनी एक उंगली उनकी चूत में डाल दी. वो अपनी गांड को ऊपर-नीचे उछालने लगीं और मेरे बालों को पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगीं.
मैने उनको इसी तरह से बहुत देर तक तड़पाया. इसके बाद मैने अपनी जीभ से उनकी चूत को चोदना शुरू किया.

उनकी चूत में से नमकीन सा रस निकल रहा था. तो मै उस रस को सारा ही चाट गया.
इधर मेरे लंड से भी रसधार टपक रही थी. तो मैने अपने लौड़े को उनके मुँह में लगा दिया. कुछ देर चूसने के बाद उन्होंने पेलने के लिए बोला. फिर मैने देरी ना करते हुए लंड को उनकी चूत पर लगाया. एक जोरदार झटका मारा. तो पूरा लंड उनकी चूत में फिट नहीं हो पाया. मैने उनकी दोनों टाँगें ऊपर करके पूरा-पूरा का लंड फिट कर दिया.
इस दौरान उनको हल्का सा दर्द भी हुआ. दर्द की परवाह किए बिना मैने ज़ोर-ज़ोर से झटके मारने चालू कर दिए.

इस तरह से मैने उनकी बहुत देर तक चुदाई की.
उसी दौरान उनकी चूत थोड़ी देर के लिए टाइट हुई. फिर ढीली पड़ गई. इसका मतलब वो झड़ गई थीं.
मै भी थोड़ी देर बाद झड़ गया और सारा माल उनकी चूत में ही छोड़ दिया. उसके बाद हम दोनों साथ में लेटे रहे. लेकिन मुझे नींद सी आ गई मुझे पता ही नहीं चला और वो मेरे साथ लेटी रहीं.
कुछ देर बाद अचानक मेरी नींद खुल गई. मेरा लंड धीरे-धीरे चूत के लिए कड़क हो गया और मैने चढ़ कर चूत के अन्दर घुसेड़ दिया.
लौड़ा चूत की गहराई में समाते ही मैने धक्के मारने शुरू कर दिए. इस बार मै उन्हें काफी देर तक चोदता रहा. और उनके दो बार झड़ जाने के बाद मै भी झड़ गया.

loading...