loading...

मौसी और मामी की दुवांधार चुदाई

Chut chudai ki kahani, antarvasna hindi sex stories, desi kahani, sex kahani, mausi mami ki chudai

दोस्तो. मेरा नाम बंटी है. मुझ चुदाई की स्टोरी पढ़ने का शौक बचपन से था. अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली चुदाई की स्टोरी है. मेरी स्टोरी सुनने में अजीब किन्तु एकदम सत्य है.

बात उस समय की है जब मै 12वीं पास करके कॉलेज में गया. उस समय मेरी उम्र 18 वर्ष थी. हमारा परिवार गांव में रहता है. वहाँ 12वीं कक्षा तक ही स्कूल है. आगे की पढ़ाई के लिए मुझे रिनम शहर जाना पड़ा. जो मेरे गांव से 25 किमी की दूरी पर है. वहाँ पर मेरे मामा का बड़ा घर है. मेरे तीन मामा हैं. जिसमें से एक मामा की शादी हो गई थी. उस समय उनकी शादी को दो साल ही हुए थे. मेरे तीनों मामा एक ही शॉप पर काम करते हैं.

मामी दिखने में एकदम सेक्सी हैं. उनका रंग दूध सा गोरा. छोटा कद और काले घने बाल उनकी सुंदरता में चार चाँद लगा देते हैं. उनके उठे हुए बोबे. हाय क्या बताऊँ आपको. काफी बड़े और आकर्षक हैं.
मामा जी के घर में 5 कमरे हैं. एक में मेरी नानीजी सोती हैं. ऊपर वाले एक कमरे में मेरे दोनों मामा सोते हैं और उनके पास वाले कमरे में मेरे बड़े मामा और मामी सोते हैं.

मुझे सबसे ऊपर वाला कमरा दिया गया था. मेरी दो मौसी भी हैं. छोटी मौसी रिंकी की उम्र 35 साल और बड़ी मौसी किरण की उम्र 40 साल है. इन दोनों की शादी हुए कई साल हो गए थे. मेरी दोनों मौसी क्रिसमस की छुट्टी पर मामा के यहाँ आई हुई थीं. दोनों दिखने में एक नम्बर की माल थीं. इन दोनों के बोबे भी दिखने में मामी से कम नहीं थे. एकदम सुडौल और बड़े-बड़े. जिन्हें देखने की तमन्ना मेरी कब से थी.

एक दिन मेरे तीनों मामाओं को 4 दिनों के लिए बिजनेस टूर पर जाना था. मुझे porn मूवी देखने का मौका मिलने वाला था. क्योंकि टीवी और सीडी प्लेयर मेरे छोटे मामाओं के रूम में ही थे.
मै स्कूल से आते वक्त अपने दोस्त से 4-5 porn मूवी की सीडी ले आया.
सभी मामा चले गए. अब घर में नानीजी दोनों मौसी और मामी ही थे. वैसे तो दोनों मौसियाँ और उनके बच्चे नानीजी के साथ उनके कमरे में नीचे सोते हैं पर उस दिन मामी ने उन्हें उनके पास ऊपर सोने के लिए बुला लिया.
मुझे पता था कि अब ये सब मिलकर गप्पे मारेंगी तो मै भी उनकी बातों का मजा लेने के लिए उसी रूम में चला गया.
मेरी छोटी मौसी थोड़ी ज्यादा सेक्सी बातें करती थीं.

वो मामी से पूछने लगीं- भैया भरपूर मजा दे रहे हैं ना आपको?
तो मामी धीरे से बोलीं- इतना तो नहीं. पर ठीक गुजर रही है रिंकी जी.
रिंकी मौसी ने मेरी ओर देखा और कहा- बच्चे तू अभी इन सब बातों को नहीं समझेगा. तू पास वाले कमरे में जा कर सो जा.

मै वहां से चला गया. मैने रूम में जाकर porn मूवी देखना शुरू कर दिया. उसमें लड़की की चुदाई की मस्त आवाज़ आ रही थी. मैने सोचा कि अब तो तीनों सो गई होंगी तो मैने थोड़ा वोल्यूम तेज कर दिया.
मै फ़िल्म देख ही रहा था कि मुझे रूम की खिड़की के पास अचानक आहट सुनाई दी. मै चौंक गया. मैने जल्दी से टीवी बंद कर दी और मामी और मौसियों के बारे में सोच कर करीब आधे घंटे तक मुठ मारी और सो गया.

सुबह जब मै देर से उठा तो रिंकी मौसी कहने लगीं- रात में काफी देर तक टीवी देखा है ना. मुझे सब पता है बंटी. तुम सेक्सी फ़िल्म देख रहे थे ना?
मै काफी डर गया था कि मौसी ये बात किसी को बता ना दें.
मैने उनसे कहा- सॉरी मौसी. आप ये बात किसी से बोलना मत.
तो उन्होंने कहा- नहीं बोलूंगी पर एक शर्त पर!
मैने कहा- कौन सी शर्त?

मौसी ने जो कहा उसे सुन कर मेरे होश उड़ गए. वो कहने लगीं कि बंटी आज तुम्हें मुझे भी वो नंगी फ़िल्म दिखानी होगी और ये बात तुम्हारी बड़ी मौसी और मामी को भी पता चल चुकी है तो उन्हें भी ये ब्लू फ़िल्म देखनी है.
मैने तुरंत हां कर दी. मै मन ही मन उत्तेजित हो रहा था.

रात हुई और मै टीवी वाले रूम में चला गया. मैने रिंकी मौसी को आवाज़ दी कि सभी ऊपर आ जाओ.

नीचे से मामी ने कहा- मुझे और तुम्हारी बड़ी मौसी को थोड़ा रसोई का काम है तो हम कुछ देर से ऊपर आएंगे. अभी तुम्हारी रिंकी मौसी ऊपर आ रही हैं.
मैने कहा- ठीक है आप लोग भी जल्दी आ जाना.

रिंकी मौसी एक पतली सी नाइटी पहने हुए रूम में आ गईं. तब तक मै फ़िल्म लगा चुका था. वो एकदम मेरे पास बैठ गईं.

फ़िल्म में एक लड़का लड़की के बोबे चूस रहा था. ये देख कर मै और मौसी दोनों उत्तेजित होने लगे.
रिंकी मौसी ने धीरे से मुझसे पूछा- तुमने तो किसी लड़की की चुत नहीं देखी होगी!
मैने कहा- मौसी. हकीकत मै नहीं देखी है.
उन्होंने कहा- देख जब तक तेरी मामी और किरण मौसी नहीं आती. तब तक मेरी देख ले.

उन्होंने अपनी नाइटी ऊँची करके अपनी पेंटी में हाथ डालने को कहा.

मैने जरा भी देर किए बिना उनकी मखमली चड्डी में हाथ डाला और चुत को सहलाने लगा. मेरा लौड़ा भी बांस की तरह खड़ा हो गया था.

रिंकी मौसी को मजा आ ही रहा था कि इतने में मामी की आवाज़ आई- रिंकीजी दरवाजा खोलिए. हम आ गए हैं.

मैने मामी की आवाज सुनते ही चड्डी से हाथ बाहर खींचा तो मैने देखा कि मेरे हाथ पर बहुत सारा मौसी की चुत से निकला हुआ पानी लग गया था. मैने तुरंत हाथ साफ किए और दरवाजा खोल दिया.

बड़ी मौसी रूम में आते ही बोलीं- बंटी फ़िल्म को शुरू से लगाओ. हम लोगों ने ऐसी सेक्स फिल्म पहले कभी नहीं देखी है.
मैने फ़िल्म को फिर से लगा दी.

फिर क्या था तीनों औरतें मेरे इर्द-गिर्द बैठ कर फ़िल्म का मजा लेने लगीं.
फ़िल्म में लड़का लड़की की चुत को चाट रहा था. मैने तिरछी नजरों से एक-एक करके मौसियों और मामी की ओर देखा. तो तीनों फ़िल्म देखने में मस्त हो रही थीं.

अब मेरा भी लौड़ा खड़ा हो कर चेप छोड़ने लगा था. मै अपने होश खो रहा था.
बड़ी मौसी ने मामी से कहा- ऐसी चुदाई वाली फ़िल्म हम लोग देख तो रहे हैं. पर अभी ना तो तुम्हारे पति हैं और ना ही हमारे. हम अपनी वासना कैसे बुझाएंगे?
इतने में मै बोल पड़ा- मै हूँ ना मौसी. मै चोदूँगा आप सभी को.

loading...

यह सुन कर तीनों हंस पड़ीं और मुझे अपना लौड़ा दिखाने को बोला.
मै शर्माने का नाटक कर रहा था. मैने कहा- आप तीनों को मै अपना लौड़ा दिखा तो दूँ. पर मेरी एक शर्त है.

इतने में बड़ी मौसी ने पूछ ही लिया- क्या शर्त है बंटी?
मैने कहा- मै अपना लौड़ा आप सभी को दिखा दूंगा. पर पहले मै आप सभी को नंगी देखना चाहता हूँ.

चूँकि सभी उत्तेजित हो चुके थे. इसलिए सभी ने मेरी ये बात मान ली.

मैने कहा- सबसे पहले कपड़े उतारने की बारी आप दोनों मौसियों की है.
वो सेक्स मूवी देख कर इतनी उत्तेजित हो चुकी थीं कि उन्होंने अपने कपड़े खोलना शुरू कर दिए.
रिंकी मौसी ने तो अपनी पूरी नाइटी उतार दी और बड़ी मौसी ने अपनी साड़ी और ब्लाउज खोल कर मुझसे अपनी ब्रा के बटन खोलने को कहा.

मेरी ख़ुशी का ठिकाना ही न था. मैने पहली बार उनके पहाड़ जैसे बोबों के दर्शन किए. कुछ देर बाद उन्होंने अपने आप को पूरा नंगा कर दिया और मुझे अपनी चुत दिखाई.

मैने बारी-बारी से दोनों की चुत को सहलाना शुरू कर दिया. दोनों की चुत गीली थी. मैने भी शर्त के मुताबिक अपनी चड्डी खोल दी. मेरा कड़क लौड़ा देख कर बड़ी मौसी बोलीं- बाप रे इतना बड़ा लौड़ा तो तेरे मौसा जी का भी नहीं है रे बंटी. तू तो सच में हमें चोद सकता है.

दोनों मौसियों ने मेरे लौड़ा को हाथ में पकड़ कर देखा. दोनों मेरे कड़क लौड़ा से खेलने में मस्त हो गईं और मै भी उनके बोबे चूसने में लग गया.

कुछ देर ही ये खेल चला होगा कि मेरी नजर अचानक मामी पर पड़ी. मामी को तो मै भूल ही गया था. उनकी हालात और भी बुरी लग रही थी. वे अपने हाथों से अपनी ही चुत को सहला रही थीं. मुझसे उनकी तड़प देखी नहीं गई और मैने मौसियों से कहा- आप लोग थोड़ा धीरज रखो. मुझे मामी की चुदाई करनी होगी क्योंकि वो चुदाई के लिए पूरी तरह तैयार लग रही हैं.

मैने मौसियों से कहा- मै पास वाले कमरे में जा रहा हूँ. आप दोनों मामी को मेरे पास भेज देना.
यह कह कर में दूसरे रूम में चला गया.

कुछ देर बाद मामी मेरे पास आईं और कहने लगीं- बंटी आपका लौड़ा बहुत मोटा है.
मैने कहा- आज मै आपकी ऐसी चुदाई करूँगा कि मामा ने भी कभी नहीं की होगी.

मैने मामी का गहरे लाल रंग का ब्लाउज खोला और उनके बोबों को चूसने लगा.
मामी कहने लगीं- मेरे बोबे तो तुम्हारे मामा भी बहुत चूसते हैं. पर चुदाई दमदार नहीं कर पाते हैं क्योंकि उनका लौड़ा तो बच्चों की तरह है. वे मेरी तो इच्छा ही पूरी नहीं कर पाते. आप देर ने कीजिए और अब जल्दी से अपना मोटा लौड़ा मेरी चुत में पेल दीजिए.
मैने कहा- ठीक है मामी.

मैने उनकी चड्डी खोली तो देखा कि उनकी चुत बिल्कुल गीली हो गई थी. मैने जरा भी देर किए बिना अपना मोटा लौड़ा उनकी चुत के छेद पर रखा और अन्दर करने की कोशिश की. पर उनकी चुत का छेद वास्तव में काफी छोटा था. मैने लौड़ा ठेला तो उनकी चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’

मैने कहा- क्या आप पहली बार चुद रही हो. जो ऐसे चिल्ला रही हो?
वो बोलीं- नहीं. वो बात नहीं है बंटी. आपका लौड़ा काफी बड़ा है. इससे मुझे दर्द हो रहा है.
मैने मामी से कहा- आप लौड़ा को मुँह में लेकर चूसो ताकि ये गीला हो जाए. फिर ये आराम से आपकी छोटी सी चुत में जा सकेगा.

उन्होंने जरा भी देर किए बिना मेरे लौड़ा को अपने मुँह में लिया और एक पोर्न एक्ट्रेस की तरह चूसने लगीं. मैने मन ही मन सोचा कि बेचारी मामी को अभी तक मामा ने लौड़ा चूसने का सुख नहीं दिया.

अब मेरा लौड़ा मामी के थूक से पूरा गीला हो चुका था पर वो लौड़ा को अपने मुँह से बाहर ही नहीं निकाल रही थीं.
मैने उनसे कहा- अब आप मेरे लौड़ा को चूसना बंद कर दीजिए. नहीं तो मै आपके मुँह में ही झड़ जाऊँगा.

फिर कही जा कर उन्होंने मेरा लौड़ा मुँह से बाहर निकाला. अब मैने उनको पलंग पर लेटा दिया और उनकी चुत के छोटे छेद पर अपना लौड़ा रख कर एक झटका दिया. अबकी बार पूरा लौड़ा उनकी चुत में समा गया.
फिर बहुत देर तक मै उनकी चुदाई करता रहा. उन्हें चुदाई का भरपूर आनन्द आ रहा था. उनकी चुत अब पानी छोड़ने लगी थी. मै भी चरम पर था. मैने स्पीड और तेज कर दी तो मामी दर्द से चीख उठीं.

कुछ मिनट बाद मैने अपना सारा पानी उनकी चुत में छोड़ दिया.

कुछ देर हम ऐसे ही चित पड़े रहे. फिर हम उठे और कपड़े पहन कर उसी रूम में चल दिए. जिधर दोनों मौसी सेक्स मूवी देख रही थीं.

रिंकी मौसी मुझसे कहने लगीं- बंटी तू अपनी मामी को जोर-जोर से चोद रहा था क्या. इनकी चीख यहाँ तक सुनाई दे रही थी.
मैने कहा- हाँ मौसी. इनकी चुत बहुत छोटी है.
ये सुनकर मामी शरमा गईं.

मैने मौसियों से कहा- मेरा लौड़ा फिर से तैयार हो गया है. अब आप दोनों मौसी उधर रूम में चलो. मै आप दोनों को एक साथ चोदूँगा.
मौसी की चुदाई की स्टोरी आप रियल कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

फिर क्या था दोस्तो. पूरी रात चुदाई का नंगा खेल चला. आज भी जब हमें मौका मिलता है तो हम खूब चुदाई करते हैं.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...