loading...

तलाकशुदा भाभी की प्यास बुझाई

Desi chut chudai ki kahani, antarvasna hindi sex stories, desi kahani, sex kahani, Sex story

हाय फ्रेंड्स, मैं बड़ोदरा से हूँ. मेरा नाम रकीब है.

यह कहानी है एक तलाक़शुदा भाभी की, जो मेरे बाजू वाले फ्लैट में नई:-नई रहने आई थीं.
हमारे पड़ोस वाला ये फ्लैट काफी दिनों से खाली पड़ा था, पर अब उसमें कोई रहने आया था. पता करने पर पता कि कोई फैमिली आई है. उनके घर में सिर्फ़ माँ और उसकी 5 साल की बेटी है.

मैं फ्री टाइम में घर में ही रहता था.
मेने एक दिन उसको बुरके में देखा. उसकी सिर्फ़ आँखें दिखाई दे रही थीं. पर क्या नशीली आँखें थीं उतने में ही समझ में आ गया कि क्या चीज हो सकती है.

  • यूं तो हम दोनों दरवाज़े के बाहर ही आमने:-सामने थे. मेने उनको आदाब किया:- हैलो भाभी मैं रकीब उर्फ़ सोनू हूँ आपका पड़ोसी हूँ.
    सबनम:- ओह आई एम सबनम!
    मैं:- कहाँ जा रही हैं आप?
    सबनम:- वो स्कूल में मुस्कान का एड्मिशन करवाना था. पिछले दो दिन से चक्कर लगा रही हूँ पर लगता है एड्मिशन नहीं होगा. अब देर हो गई है ना वो लोग कह रहे थे कि सब सीट्स फुल हैं.

मैं:- आप चलिए मैं आपकी हेल्प कर देता हूँ.
मैं उन्हें स्कूल ले गया और एड्मिशन करवा दिया क्योंकि मैं भी उसी स्कूल का स्टूडेंट रह चुका था.

सबनम ने मुझे शुक्रिया कहा और अपने घर चाय पीने आने को कहा.

मुझे तो इसी का इन्तजार था मेने शाम को उनके घर गया और चाय पीते हुए हम दोनों बातें करने लगे.

मैं:- भाभी, मुझे पता चला कि आपका तलाक़ हो चुका है? आपने दूसरी शादी क्यूँ नहीं की? मुस्कान को अपने पापा की कमी महसूस नहीं होती?
सबनम:- हाँ मेने सोचा तो था, लेकिन कौन शादी करेगा अब मुझसे? मेने कोशिश की थी पर कोई अच्छा इंसान नहीं मिला. दो:-तीन लोगों ने कहा कि मुझे मुस्कान को छोड़कर शादी करनी पड़ेगी. मेने इनकार किया तो उन्होंने ‘ना’ कर दी.

मैं:- लेकिन भाभी आप तो अभी भी जवान हो आपको तो कोई भी अच्छा लड़का मिल जाएगा. आँखों से तो आप खूबसूरत भी लगती हो. आपका चेहरा मेने अभी देखा नहीं ना, तो भाभी मैं बहुत कुछ आपके बारे में नहीं कह सकता हूँ.

सबनम:- ओफ्फो तो आपको चेहरा देखना हैं ना अरे सोनू मैं बाहर जाते वक्त और बाहर वालों के सामने बुरका पहनती हूँ… तुम तो अब अपने हो!
कहकर भाभी ने अपना बुरखा उतार दिया.

उनके हुस्न के जलवे से मेरा लौड़ा खड़ा हो गया और उन्होंने भी मेरी आँखों की चमक को परख लिया था.
अब हम दोनों की बातें शुरू हो गईं.

शाजिया:- मेरे शौहर मुझसे कहते थे कि मैं मोटी हो गई हूँ और फिर उनको अपने ऑफिस में आलिया नाम की लड़की से प्यार हो गया तो उन्होंने मुझे तलाक़ दे दिया. अब छोड़ो इन बातों को तुम तो अभी जवान हो तो गर्लफ्रेंड्स कितनी हैं तुम्हारी?
मैं:- मेरी एक गर्लफ्रेंड थी जिससे ब्रेकअप हो चुका है.

सबनम:- ओह आई एम सो सॉरी रकीब पर तुम्हें कोई अच्छी सी लड़की मिल जाएगी डोंट वरी.
मैं:- आई होप सो भाभी वैसे मुझे मुस्लिम गर्लफ्रेंड मिले तो मेरी खोज पूरी हो.

मेने उन्हें ऐसा इसलिए कहा कि मुझे उन्हें पटाना था. वैसे मुझे तो सभी हॉट और गरम लौंडिया पसंद आती हैं.

सबनम:- ओह अच्छा? क्या बात है रकीब मुस्लिम लड़कियाँ ही अच्छी लगती हैं तुम्हें?
मैं:- हाँ भाभी मुझे मुस्लिम लड़कियाँ ही अच्छी लगती हैं. मुझे लगता है उनमें एक कशिश होती है और बहुत प्यारी और और रहने दो भाभी.

  • सबनम:- अरे बोलो ना क्या हुआ?
  • बोल भी दो देखो मैं बुरा नहीं मानूँगी बोल दो.
    मैं:- वोवो भाभी मुझे लगता है आप सेक्सी हैं।
  • मुझे तो एकदम हॉट लगती हैं.

सबनम:- ओह सच में! मुझे उम्मीद है कि तुमको मुस्लिम गर्लफ्रेंड मिल जाएगी. वैसे शाम को क्या कर रहे हो?
भाभी की चुदास मुझे समझ में आने लगी थी.

‘भाभी आज मेरे घर के सभी लोग 2:-3 दिन के लिए बाहर जा रहे हैं तो मैं घर पर ही रहूँगा.’
‘ओह तुम्हारे घर वाले कहीं जा रहे हैं ना 2:-3 दिन के लिए? तो शाम का खाना यहाँ क्यूँ नहीं खा लेते?
मैं:- ओके भाभी

मेने तुरंत ‘हाँ’ कर दी और और घर आकर मैं रात होने का इंतज़ार करता रहा.

मैं रात को 9 बजे उनके घर गया.
भाभी तब खाना बना रही थीं, उन्होंने मुझे बैठने का बोला.

मैं उनकी लड़की के साथ खेलने लगा.
कुछ देर बाद मैं पेशाब करने उनके बाथरूम में गया तो देखा बाथरूम में उनकी पैन्टी सूखने के लिए टंगी थी.

मुझसे रहा नहीं गया और मेने पैन्टी को सूंघना शुरू कर दिया. उफ़फ्फ़ कितनी मादक खुशबू थी.

मेरा हाथ अपने आप मेरे ट्राउज़र में गया और मेने उनकी पैन्टी मेरी अंडरवियर के अन्दर डाल ली और मेरे लंड पर रगड़ने लगा, सबनम के नाम से लौड़ा हिलाना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद मेने अपना सारा वीर्य उनकी पैन्टी पर निकाल दिया.
झड़ने के बाद मैं थोड़ा सा डर गया कि कहीं उनको पता ना चल जाए इसलिए पैन्टी को सूखने के लिए एकदम कोने में रख दिया.

अब हम दोनों ने फिर खाना खाया. खाना होने के बाद सबनम ने अपनी लड़की को दूसरे कमरे में सुला दिया और बोला:- मैं नहाकर आती हूँ. थोड़ी ही देर में वो बाथरूम से बाहर आईं.

वो पैन्टी दिखाते हुए बोलीं:- सोनू रकीब ये क्या है? तुमने मेरे पैन्टी पर ये क्या डाल दिया गीला:-गीला सा चिप:-चिपा सा लग रहा है?

मेरा दिल ज़ोरों से धड़कने लगा.
मैं:- भाभी वो वो मेरे

भाभी ने पैन्टी को अपने होंठों से लगाया और पैन्टी पर मेरा लगा हुआ वीर्य चाटने लगीं.
उनके कंठ से ‘उम्म्म उम्म्म…’ की आवाज आई.

शाजिया ने अपनी चुत खुजाते हुए बड़े ही कामुक अंदाज में कहा:- सोनू तुमने इससे वेस्ट क्यूँ किया मुझे कह देते मुझे इसका टेस्ट बहुत अच्छा लगता है उम्म्म्

मैं भाभी का इशारा समझ गया और मेने उन्हें आँख मार दी, तो उन्होंने अपने बाँहें मेरी तरफ फैला दीं.

अब मेने भाभी को पकड़ा और उनको खींचकर अपनी गोद में बिठा लिया, फिर मेने अपने होंठों को उनके होंठों पर रगड़ना शुरू किया.
हम दोनों ‘उम्म मुऊऊउआहह मुआहह’ करके एक:-दूसरे को ज़ोर:-ज़ोर से चूमने लगे.

मैं:- सबनम मेरी रानी अपनी जीभ तो चखने दो ना.
‘ले लो ना मेरे प्यारे रसिया’
वो बोल पड़ी और अपनी जीभ उसने होंठों से थोड़ी बाहर कर दी.

मैं उसकी जीभ पर अपनी जीभ फेरने लगा.

उसने सलवार:-कमीज़ पहन रखा था, मैं कमीज़ के ऊपर से उसके मम्मे दबाने लगा.
वो ‘उम्म्म ओम्म’ करके सिसकारियाँ भरने लगी.

मेने उसकी जीभ को अपने होंठों के बीच ज़ोर से दबाकर खूब चूसा और फिर उसकी रसीली जीभ पर अपने होंठ रगड़ने लगा.
उसने अपने दोनों हाथ मेरी गर्दन के पीछे डाल दिए और मेरे बालों में फेरने लगी.

‘सबनम कैसा लगा तुझे तेरा रसिया?’ मेने पूछा.
‘ओह्ह रसिया ये औरत कब से प्यासी है तेरे लिए’ वो बोल पड़ी.
‘सबनम तू तो एकदम रंडी लग रही है’ मेने उसके बाल खींचते हुए कहा.
‘ओह सोनू दिखा दे मुझे कि एक रंडी की क्या औकात होती है.’

अब मेने उसकी सलवार:-कमीज़ को उतार दिया और उसको बिस्तर पर ले आया. मेने उसके मम्मों को चूमना शुरू किया और खूब चूसा. अपने दांतों से हल्के से लव बाईट भी किया.

‘उम्म्म्म ओह आज सब कुछ कर ले मेरे साथ मेरे दल्ले’ वो धीरे से बोली. मेने उसकी ब्रा उतार दी और उसके मम्मों को हाथ में लेकर दबाने लगा. पहले धीरे से मसला और फिर ज़ोर:-ज़ोर से दबाने लगा.
‘ओह अम्मी सोनू तू तो पूरा भाभीचोद निकला है धीरे उउआहह’

फिर मेने उसके मम्मों को भंभोड़ा तो वो एकदम ज़ोर से मस्ती भरी आवाज में सीत्कार करने लगी.

‘साली छिनाल आज तुझे 2 कौड़ी की रांड की तरह चोदूंगा’
‘आआहह सोनू मेरी जान जैसे चाहे चोद ले अब से ये जवानी सिर्फ़ तेरी होगी बहनचोद’

मेने उसका एक निप्पल अपने मुँह में ले लिया और उसको धीरे:-धीरे चूसने लगा. फिर मेने उसके निप्पल को ज़ोर:-ज़ोर से मींजना शुरू कर दिया. इसी के साथ दूसरे चूचुक पर अपनी जीभ फेरने लगा.

‘ऑहह एम्म्म मेरे प्यारे राजा तुझे अच्छी तरह पता है कि औरत को कैसे खुश किया जाता है ज़ोर:-ज़ोर से चूस ले अपनी रंडी की चूचियाँ रोज़ आकर ऐसे ही प्यार किया कर मुझे अहह कितने महीनों से लंड के लिए प्यासी हूँ सोनू’

अब मैं उसकी चूची को अपने दाँतों से काटने लगा फिर उसको ऊपर उठाकर बिठा दिया.

‘चल थूक अपने मम्मों पर मादरचोद’ ऐसा कहते ही उसने अपना थूक चूचियों पर टपका दिया.
मैं उसके मम्मों पर से उसका थूक चाटने लगा, फिर उसके मम्मों को काटने लगा.

दोनों मम्मों पर मेने ‘लव बाइट्स’ दिए. उसके दोनों मम्मों पर अपनी जीभ घुमाकर उनको अपनी थूक से गीला किया.
‘उम्म्म मेरा दल्ले राजा चूस ले अपनी छिनाल की चूचियाँ’

loading...

मैं उसके पेट को चूमने लगा और फिर उसकी नाभि में अपनी जीभ डालकर गोल:-गोल घुमाने लगा.

‘उम्म्म्म उम्म्म’
वो मेरे बालों में उंगलियाँ फेरने लगी और सीत्कार करने लगी ‘अहह सोनू’

मेने उसकी नाभि को धीरे से काट लिया और वो अपनी कमर ऊपर करके सिसकारियाँ भरने लगी ‘उम्म्म सोनू उम्म्म’

मेने उसको घोड़ी बनाया और उसकी पैन्टी उतार दी, उसकी गाँड पर अपने दोनों हाथ फेरे.

‘उम्म्म सोनू… गाँड कैसी लगी मेरी?’
‘बहुत अच्छी है मेरी छिनाल’
‘मेरे पति ने कभी मेरी गाँड को नहीं छुआ उम्म तुम छू लो आज जितना जी करे मेरे रसिया’

मेने उसकी गाँड को ज़ोर:-ज़ोर से दबाना शुरू किया.

‘अहह उउउफ्फ़ म्म्मार’

मेने उसकी गाँड को चूमना शुरू किया अब और अपने होंठों को उसकी गाँड पर ज़ोर:-ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया.
मैं अपनी जीभ से उसकी गाँड चाटने लगा और उसकी गाँड को दातों से ज़ोर:-ज़ोर से काटने लगा.

‘ऑहह मर गइईई अहह सोनू’

अब मेने उसके चुतड़ों को फैलाया और उसकी गाँड के छेद पर थूक दिया, फिर मेने उसके छेद पर उंगली रगड़ना शुरू किया.
‘अहह अहह उंगली अन्दर डाल दे कमीनेएई’

मेने उसकी गाँड के छेद पर उंगली ज़ोर:-ज़ोर से रगड़ना शुरू किया और फिर उंगली उसकी गाँड में डाल दी.
वो भी गाँड को मेरी उंगली पर धकेल रही थी:- उफ़फ्फ़ और अन्दर डालो ना सोनू और अन्दर डालो प्लीज़

मेने उंगली ज़ोर से अन्दर डाल दी और अपनी उंगली की टिप को मोड़ कर उसकी गाँड में ज़ोर:-ज़ोर से छेड़कानी करनी शुरू की.
‘आअहह अहह ऐसा कभी नहीं हुआ मुझे ओह मेरी चुत गीली हो गई है बहनचोद चुत फाड़ दे मेरी आज’

मेने उसकी गाँड पर ज़ोर से थप्पड़ मारा, फिर उसको बिस्तर पर लिटाया.
अब मैं उसकी चुत को ज़ोर:-ज़ोर से चूमने लगा और रगड़ने लगा.
अपने होंठों को उसकी गीली शेव्ड चुत पर लगा दिया.

वो अपनी कमर उठाकर जैसे अपनी चुत मुझे दे रही थी ‘अहह ओह सोनू अच्छा लग रहा है बहुत अच्छा आहह’

मेने अपने होंठों को खोला और ज़ोर से उसकी चुत पर अपना खुला मुँह दबा दिया.
फिर मेने मुँह को बंद किया और उसकी चुत को मेरे होंठों के बीच खींच लिया.
उसकी चुत से पानी आने लगा, मेने उसका सारा रस अपने मुँह में ले लिया.

‘उम्म्म ओमम्म’

फिर मेने उसकी चुत के होंठों को धीरे से मसला.

‘आहह हाय ऑहह और करो सोनू उम्म्म्म’

मेने अपने हाथ उसके मम्मों पर धर दिए और मम्मों को दबाने लगा. साथ ही मैं धीरे:-धीरे उसकी चुत चाटने लगा. उसकी चुत पर अपनी जीभ को ऊपर से नीचे तक खूब रगड़ा.

उम्म्म्ममम ओअह

फिर उसकी चुत के होंठों को खोलकर उसकी चुत के अन्दर अपनी जीभ डाल दी. मेने जीभ को ज़ोर:-ज़ोर से चुत के अन्दर रगड़ना शुरू किया.
वो मेरे बालों को पकड़कर अपनी चुत पर मुझे दबाने लगी:- और करो अहह ओह्ह सोनू मुझे तुम्हारा लंड चूसना है.

मैं उठकर खड़ा हो गया और मेने अपना लंड उसको दिखाया. वो अपने घुटनों पर आ गई. मेने लंड के टोपे को पीछे किया और उसको अपना मस्त गुलाबी सुपारा दिखाया.

‘उम्म तुम्हारा लंड कितना प्यारा लग रहा है उम्म्म्म’
उसने मेरा लंड पकड़कर मुँह में ले लिया और ज़ोर:-ज़ोर से मुँह को आगे:-पीछे करते हुए लंड को रगड़ने लगी.

‘अहह उम्म्म सबनमअ बहुत अच्छा चूसती है तू हरामज़ादी’

फिर मेने उसके गालों को पकड़ा और ज़ोर:-ज़ोर से अपना लंड उसकी मुँह में अन्दर:-बाहर किया. अपना लंड उसके मुँह में ज़ोर से पेला, जिससे मेरे लंड का सुपारा उसके गले पर लगने लगा.

‘उम्म एम्म्म’

उसने लंड बाहर निकाला और बोली:- सोनू अब रहा नहीं जाता डाल दो अपना ये लौड़ा मेरी चुत में ना जाने कितने दिनों से प्यासी है देखो चुत से अभी भी पानी बह रहा है. चादर गीली हो गई है चुत से टपकते हुए पानी से डाल दो डाल दो अपना लौड़ा मुझमें

वो लेट गई और मेने अपने लंड का सुपारा उसकी चुत पर ऊपर से नीचे तक रगड़ा. फिर लंड को उसकी चुत में धकेल दिया.

‘अहह सोनू उम्म’

मेने उसके चुतड़ों को पकड़कर अपनी ओर खींचा और एक ज़ोर का झटका देकर पूरा लंड उसकी चुत में डाल दिया. वो ज़ोर से कराह उठी:- अहह

फिर मेने उसकी चुत से लंड को अन्दर:-बाहर किया और ज़ोर:-ज़ोर से उसको चोदने लगा. चुदाई करते वक़्त मेने उसके मम्मों को ज़ोर:-ज़ोर से दबाना शुरू किया, उसकी चूचियों को मींजा.

‘उफ्फ़ तुम आज मुझे मार ही डालोगे’

मैं उसकी ज़ोर:-ज़ोर से चुदाई करता रहा और वो भी अपनी कमर उठा:-उठाकर मुझे साथ देने लगी.
फिर मेने अपना लंड उसकी चुत से निकाल लिया तो वो मेरी तरफ देखकर गुस्सा हो गई.

‘क्यूँ निकाल दिया बहनचोद?’
‘घोड़ी बन जा कुतिया तुझे दूसरे एंगल में चोदूंगा.’

वो तुरंत अपने घुटनों और हाथों पर आ गई और मेने पीछे अपना लौड़ा उसकी चुत में डाल दिया.

‘अहह तेरा लौड़ा मुझे रोज़ चाहिए सोनू रोज़्ज़्ज़ अहह’

फिर मेने उसको ज़ोर:-ज़ोर से पेलना शुरू किया उसकी गाँड पर थप्पड़ मारे.

‘सोनू अपना पूरा पानी निकाल दो इस चुत में तुम्हारा बीज चाहिए मुझे मेरी चुत में.’

मेने अपना लंड उसकी चुत में ज़ोर:-ज़ोर से धकेला और फिर उसकी चुत में अपने लंड का सारा लावा डाल दिया.

‘उम्म्म्मम सबनम’

उसी वक़्त वो भी झड़ गई और उसका सारा पानी मेरे लंड पर फव्वारे की तरह टूट पड़ा.

मैं लंड बाहर निकालकर बगल में गिर गया. हम दोनों लेट गए.

‘सबनम तुम प्रेग्नेंट हो गई तो?’
‘नहीं मैं कल ही अनवॉंटेड 72 ले लूँगी तुम्हारा लौड़ा अब रोज़ जो लेना है मुझे.’

दोस्तो, यह कहानी थी शाजिया भाभी की… आपको पसंद आई या नहीं, कमेंट करें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...